अमेरिका जाते समय यूपी के इंजीनियर की जापान में मौत

उत्तर प्रदेश की औद्योगिक नगरी कानपुर के स्वराजनगर पनकी के रहने वाले 37 वर्षीय इंजीनियर विजय कुमार पाल की दिल्ली से अमेरिका जाते समय हार्ट अटैक पड़ने से मौत हो गई. आईआईटी रूड़की से बीटेक करने वाले विजय सैन फ्रांसिस्को में जीई ऑयल एंड गैस कम्पनी की बैठक में हिस्सा लेने जा रहे थे.

मृतक के भाई अजय पाल ने सुरक्षित और जल्द शव को भारत पहुंचाने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर मदद की गुहार लगाई है. साथ ही कम्पनी के अधिकारी और मृतक के परिजन गृह और विदेश मंत्रालय नई दिल्ली में कोशिश में लगे हुए हैं.

अजय पाल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि शव इसी सप्ताह रवाना कर दिया जाए क्योंकि शुक्रवार से अगले तीन दिनों तक छुट्टी है, यदि ऐसा न हुआ तो मंगलवार की शाम तक मृतक का शव दिल्ली पहुंचने की उम्मीद है.

जानकारी के मुताबिक जापान सरकार ने आज मृतक का मृत्यृ प्रमाणपत्र जारी कर शव को सुरक्षित करने के लिए वहां की एक एजेन्सी को दे दिया है, जिसके द्वारा अग्रिम कार्यवाही कर गुरुवार शाम तक जापान में स्थित भारतीय उच्चायोग को शव को सौंपे जाने की उम्मीद है. परिजनों की कोशिश है कि तीन दिन की छुट्टी शुरू होने से पहले मृतक के शव को भारत रवाना कर दिया जाए.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक 13 अक्टूबर को एयर इंडिया के विमान एआई 137 से सैन फ्रांसिस्को अमेरिका जाते समय बीच रास्ते में ही इंजीनियर विजय को हार्टअटैक पड़ गया और तत्काल टोक्यो जापान में इमरजेन्सी लैंडिंग कराकर उसे स्थानीय हास्पिटल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

अजय के मुताबिक, जापान से लगभग तीन हजार किलोमीटर आगे निकलने के बाद यात्रा कर रहे विजय कुमार पॉल को खाना खाने के बाद उल्टियां शुरू हो गई और तबियत बिगड़ती देख एयर के कैप्टन ने वापस टोक्यो स्थित एयरपोर्ट पर इमरजेन्सी लैडिंग की, जहां से इंजीनियर विजय कुमार पाल को लगभग अस्सी किलोमीटर दूर रेडक्रास मेडिकल सेन्टर ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. इंजीनियर विजय के परिवार में उनकी पत्नी, चार वर्ष की बच्ची के अलावा मां-बाप, दो भाई और दो बहनें हैं.