‘मी टू’ अभियान के तहत बीसीसीआई के सीईओ पर भी लगा यौन उत्पीड़न का आरोप, बीसीसीआई ने मांगा जवाब

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने एक महिला लेखक द्वारा ‘मी टू’ अभियान के तहत अपने मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी पर लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों पर उनसे जवाब मांगा है. एक महिला लेखक ने जौहरी पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं.

उन्होंने जौहरी पर नौकरी देने के बदले फायदा उठाने के इल्जाम लगाए हैं. महिला लेखक हरनिद्ध कौर ने अपने ट्वीटर हैंडल पर कुछ स्क्रीनशॉट्स जारी किए हैं, जिनमें उन्होंने आपबीती लिखी है.

बीसीसीआई के प्रशासकों की समिति (सीओए) ने जौहरी से यौन उत्पीड़न के आरोपों पर एक सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा है.

सीओए ने अपनी एक विज्ञप्ति में कहा, “आज सोशल मीडिया सहित कुछ मीडिया वर्ग में ऐसी खबरें आ रही है, जिनमें एक महिला ने ट्विटर के जरिये जौहरी के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. यह आरोप उनके पिछले रोजगार से जुड़े हैं, लेकिन ये ‘मी टू’ अभियान का एक हिस्सा है.”

सीओए ने कहा, “इन आरोपो के संबंध में जौहरी से एक सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा गया है. इस मामले में आगे की कार्रवाई जवाब मिलने के बाद की जाएगी.”

वर्ष 2016 में बीसीसीआई में आने से पहले जौहरी डिस्कवरी नेटवर्क एशिया पैसिफिक (दक्षिण एशिया) के कार्यकारी उपाध्यक्ष थे.