हैदराबाद टेस्ट : बिना बदलाव के उतर सकती है टीम इंडिया

टीम इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच दूसरा और सीरीज का आखिरी टेस्ट मैच शुक्रवार से शुरू हो रहा है. पहले मैच में एकतरफा प्रदर्शन कर तीन दिन में जीतने वाली टीम इंडिया सीरीज में 1-0 से आगे है. इसमें कोई शक नहीं है कि टेस्ट की नंबर-1 टीम इस मैच में भी अपनी बादशाहत जारी रखना चाहेगी.

इंग्लैंड में हार के बाद टीम इंडिया के लिए यह सीरीज आस्ट्रेलिया दौरे से पहले खोए हुए आत्मविश्वास को हासिल करने का काम करेगी. साथ ही यह मैच उन खिलाड़ियों के लिए मौका है जो इंग्लैंड में और फिर राजकोट में खेले गए पहले टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए. वहीं वेस्टइंडीज के लिए यह मैच सीरीज को बराबरी पर खत्म करने का मौका होगा. पहले टेस्ट मैच में मेहमान खेल के किसी भी क्षेत्र में मेजबानों से आगे नहीं निकल पाई थी.

टीम इंडिया ने पहले मैच की तरह की इस मैच से पहले भी अपनी अंतिम-12 खिलाड़ियों की सूची जारी कर दी है जिसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है. इसका मतलब है कि इस सीरीज के लिए टीम में शामिल किए गए सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल आस्ट्रेलिया दौरे से पहले अपने बल्ले का जौहर नहीं दिखा पाएंगे. क्या उन्हें आस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम में चुना जाएगा यह बाद की बात रही.

पृथ्वी शॉ ने सलामी बल्लेबाज के तौर पर अपनी जगह पक्की कर ली है. यह भी तय माना जा रहा है कि वह आस्ट्रेलिया दौरे पर भी इसी जिम्मेदारी के साथ मैदान पर उतरेंगे, लेकिन उनका साझेदारा कौना होगा वो काफी हद तक इस मैच पर निर्भर करता है.

राजकोट में पृथ्वी के साथ पारी की शुरुआत करने वाले लोकेश राहुल पर टीम से बाहर जाने की तलवार लटक रही है. अगर वह इस मैच में बल्ले का दम नहीं दिखा पाते हैं तो आस्ट्रेलिया दौरे पर वह बाहर भी हो सकते हैं. राहुल के लिए इस लिहाज से यह मैच करियर बचाने का सवाल है.

सिर्फ राहुल ही नहीं. टेस्ट टीम के उप-कप्तान अंजिक्य रहाणे के लिए यह मैच काफी मायने रखता है. हालांकि पहले मैच में उन्होंने फॉर्म में वापसी के संकेत दिए थे लेकिन क्या वह अपनी लय बरकरार रख पाते हैं इस पर टीम प्रबंधन की निगाहें होंगी.

पिछले मैच में रवींद्र जडेजा ने बल्ले और गेंद दोनों से शानदार प्रदर्शन किया था. अंतिम-12 में बदलाव न करना यह भी संकेत हो सकता है कि कोहली अपने कप्तानी करियर में दूसरी बार बिना बदलाव के उतरें, लेकिन ऐसी भी संभावनाएं हैं कि कप्तान मोहम्मद शमी या उमेश यादव को आराम देकर शार्दूल ठाकुर को मौका दे सकते हैं.

वहीं वेस्टइंडीज के लिए इस मैच में अच्छी खबर आई है. टीम के नियमित कप्तान जेसन होल्डर पूरी तरह से फिट हैं और मैच के लिए तैयार हैं. होल्डर को राजकोट टेस्ट से पहले टखने में चोट लग गई थी इसलिए टीम की कप्तानी का भार क्रैग ब्रैथवेट पर आ गया था.

वहीं दादी के देहांत के कारण पहले मैच से बाहर रहे केमर कोच की भी टीम में वापसी हो गई है. उनका दूसरे टेस्ट मैच में खेलना तय माना जा रहा है, देखना यह होगा कि टीम प्रबंधन इन दोनों के स्थान पर किन्हें बाहर करता है.

ब्रैथवेट के ऊपर टीम की बल्लेबाजी का भार होगा. केरन पावेल ने पहले मैच की दूसरी पारी में तो रोस्टन चेज ने पहली पारी में अर्धशथक जड़े थे, लेकिन इन दोनों के अलावा कोई और बल्लेबाज टीम में योगदान नहीं दे सका था.

अभ्यास मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले सुनील अम्बरीस ने निराश किया था. होल्डर के आने से टीम की बल्लेबाजी को भी मजबूती मिलेगी साथ ही गेंदबाजी को भी.

वेस्टइंडीज के गेंदबाज पहले टेस्ट में बिल्कुल भी कारगर साबित नहीं हुए थे. शेनन गेब्रिएल ने हालांकि शुरुआती दौर में अच्छी गेंदबाजी की थी लेकिन उनको साथ नहीं मिला था. शाई होप और देवेंद्र बिशू टीम इंडिया में भी अपनी स्पिन का कमाल नहीं दिखा पाए थे और इसी वजह से टीम इंडिया ने पहली पारी में विशाल स्कोर खड़ा किया था.

टीमें :

टीम इंडिया : विराट कोहली (कप्तान), अंजिक्य रहाणे (उप-कप्तान), लोकेश राहुल, पृथ्वी शॉ, चेतेश्वर पुजारा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, कुलदीप यादव, रवींद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, शार्दूल ठाकुर.

वेस्टइंडीज : जेसन होल्डर (कप्तान), सुनील अम्बीरस, देवेंद्र बिशू, क्रैग ब्रैथवेट, रोस्टन चेस, शॉन डॉवरिच, शेनन गैब्रिएल, जाहमर हेमिल्टन, शिमरोन हेटमायेर, शाई होप, शेमरन लुइस, कीमो पॉल, केरन पावेल, जोमेल वारिकन और केमर रोच.