शारदीय नवरात्रि 2018 : ऐसे करें मां चन्द्रघण्टा की आराधना, मिलेगी अपार सफलता

10 अक्टूबर 2018 को शारदीय नवरात्रि आरम्भ होने के साथ ही एक ही दिन में दो नवरात्रि व्रत हो गए. यानी मां शैलपुत्री और मां ब्रह्मचारिणी का व्रत एक ही दिन रखा गया.10 अक्टूबर 2018 को शैलपुत्री देवी का व्रत सुबह 7:25 तक था जिसके बाद द्वितीया तिथि लगने के कारण एक ही दिन दो व्रत हो गए.

11 अक्टूबर 2018 को देवी के तीसरे स्वरूप मां चन्द्रघण्टा की आराधना का विधान है. नवरात्रि में भगवती के तीसरे स्वरूप को चंद्रघंटा कहा जाता है. मां का नाम चंद्रघंटा इसलिए है क्योकि इनके मस्तक पर घंटे के सामान अर्धचन्द्र है. घंटे का अभिप्राय मंदिर में स्थित घंटा एवम् उसकी ध्वनि से उत्पन्न सकारात्मक ऊर्जा है.

चंद्र हमारे बदलते भावों और विचारों का कारक माना जाता है. मां चंद्रघंटा की आराधना कर सांसारिक कष्टों से मुक्ति पाकर दैविय चेतना का साक्षात्कार करता है. चंद्रघंटा मां का यह स्वरूप दस भुजाधारी का है.जिनमें देवी चंद्रघंटा के एक हाथ में कमल का फूल, एक में त्रिशूल, एक में गदा, एक में तलवार, एक में धनुष और एक में बाण है. देवी का एक हाथ हृदय पर, एक हाथ अभय मुद्रा में और एक हाथ आशिर्वाद मुद्रा में है.

भगवती गले में सफेद फूलों की माला धारण करती है और रत्नों से जड़ित आभूषण पहने होती है. साधकों को इनका स्वरूप सौम्य, शांत और भव्य दिखाई पड़ता है. चंद्रघंटा मां की भक्ति करने से साधक साहस, अभय, सौम्यता और विनम्रता को प्राप्त करते है. इस दिन साधक का मन मणिपुर चक्र में स्थित रहता है.

माता चंद्रघंटा का उपासना मंत्र
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता.
प्रसादं तनुते मह्यां चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥
चन्द्रघंटा माता की आरती
जय माँ चन्द्रघंटा सुख धाम, पूर्ण कीजो मेरे काम.
चन्द्र समान तू शीतल दाती, चन्द्र तेज किरणों में समाती..
क्रोध को शांत बनाने वाली, मीठे बोल सिखाने वाली.
मन की मालक मन भाती हो, चन्द्र घंटा तुम वरदाती हो..
सुंदर भाव को लाने वाली, हर संकट मे बचाने वाली.
हर बुधवार जो तुझे ध्याये, श्रद्धा सहित जो विनय सुनाय..
मूर्ति चंदर आकार बनाये, सन्मुख घी की ज्योत जलये.
शीश झुका कहे मन की बाता, पूर्ण आस करो जगदाता..
कांची पुर स्थान तुम्हारा, करनाटिका मे मान तुम्हारा.
नाम तेरा रटू महारानी, ‘भक्त’ की रक्षा करो भवानी..