हम अब कांग्रेस का इंतजार नहीं करेंगे : अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को यहां कहा कि कांग्रेस ने बहुत इंतजार कराया, लेकिन अब हम कांग्रेस का इंतजार नहीं करेंगे. बसपा से भी बात करेंगे. उन्होंने कहा कि वोट भले ही कम मिला हो, लेकिन मध्य प्रदेश में समाजवादी पार्टी चौथे स्थान की पार्टी है.

अखिलेश ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के शिक्षकों को सम्मानित किया. इस दौरान चुनावी राज्यों में गठबंधन को लेकर उन्होंने बड़ा ऐलान करते हुए कहा, “सपा छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान में चुनाव लड़ेगी. छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे.”

अखिलेश ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कहा, “साढ़े चार साल पहले स्वदेशी की बात करने वाले और आंदोलन चलाने वाले अब चुप हैं. केंद्र की सरकार ने चीन से सामान आयात करने का लाइसेंस दे दिया है और पूरा मार्केट चीन के सामानों से भरा पड़ा है. अब तो भगवान की मूर्तियां और मिठाई के डिब्बे भी चीन से आने लगे हैं.”

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव में विजयी प्रत्याशियों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा, “छात्रसंघों में समाजवादी विचारधारा के लोग लगातार चुनाव जीत रहे हैं. भाजपा सरकार हार के डर से छात्रसंघों में चुनाव नहीं कराना चाहती है. गोरखपुर विश्वविद्यालय में चुनाव रद्द करा दिया.”

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में नव-निर्वाचित छात्रसंघ अध्यक्ष के घर पर आगजनी के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराते हुए अखिलेश ने कहा कि भाजपा की जमीन खिसकती देख अब उनके कार्यकर्ता इस तरह का आचरण करने लगे हैं.

उन्होंने कहा कि यह भाजपा की साजिश है कि जहां जीत नहीं सकते, वहां चुनाव पर रोक लगा दो और जहां हार जाओ, वहां आग लगा दो.

उत्तर प्रदेश में पुलिस के बगावती तेवर पर अखिलेश ने कहा, “जब सरकार किसी संस्था से गलत काम कराएगी तो उसका परिणाम खुद ही भुगतना पड़ेगा. हम लोगों ने कई बार सरकार को आगाह किया, लेकिन सरकार ने विपक्ष की कोई बात नहीं सुनी. विपक्ष की अनदेखी की गई.”

उन्होंने कहा, “इस हालात के लिए भाजपा सरकार खुद जिम्मेदार है. पुलिस से गलत काम कराया गया. फर्जी मुकदमे लिखाए जा रहे हैं. फर्जी एनकाउंटर कराए जा रहे हैं. प्रदेश सरकार ने पुलिस से गलत काम कराए.”

अखिलेश ने कहा कि प्रदेश में अगर सपा सरकार होती तो अबतक पूर्वाचल एक्सप्रेस वे आजमगढ़ और गाजीपुर तक बन गया होता, और वाराणसी और कानपुर में मेट्रो का काम हो रहा होता.

मध्यप्रदेश में कांग्रेस से गठबंधन न होने पर प्रत्याशी उतारने के सवाल पर अखिलेश ने कहा, “तो क्या सहयोगी दल खुद को खत्म कर ले.”

लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को शामिल करने के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि “हम समाजवादी लोग परेशान नहीं करते हैं.”