जानिए, कैसी हथेली की भाग्य रेखा दर्शाती है कैसा भविष्य…

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली की भाग्य रेखा अगर शुभ हो तो व्यक्ति का भाग्य हर हाल में चमकता है. हथेली में भाग्यरेखा मणिबंध रेखा से शुरू होती है. हाथों की लकीरो में व्यक्ति के पूरे जीवन का हाल होता है. इन्हीं लकीरों में ज्योतिष व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करने वाले ग्रह की दशा देखकर उसके भविष्य का हाल बताते है.

लेकिन क्या आप जानते है कि इन्हीं रेखाओं में एक भाग्य रेखा होती है जो बताती है कि किसी व्यक्ति का भाग्य कैसा रहेगा और वो कैसी जिंदगी जिएगा, कितनी सफलता हासिल करेगा, कैसा व्यापार या नौकरी करेगा और उसे जीवन में कब-कब सफलता और असफलताओं का सामना करना पडेगा. हस्तरेखा ज्योतिषों के अनुसार भाग्यरेखा को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है.

कलाई के बीच से शुरु होने वाली भाग्यरेखा ऊपर की ओर कुछ सीधी होकर जाती है. शनि और सूर्य की ऊंगली यानि मध्यमा और अनामिका के नीचे आकर यह रेखा खत्म होती है. यह रेखा सभी के हाथों में नहीं होती, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वे व्यक्ति भाग्यहीन होते हैं. बस ऐसे में परिश्रम अधिक करना पड़ता है.

कैसी हथेली की भाग्य रेखा दर्शाती है कैसा भविष्य..?

सीधी, गहरी, साफ दिखने वाली, बिना टूटी रेखा सर्वोतम माना जाता है. ऐसी रेखा वाले व्यक्ति का भाग्य बहुत उज्जवल होता है. उसे सारे सुख मिलते है. जीवनभर वो आसानी से थोड़ा परिश्रम कर ही अनन्त गुना फल पा लेता है.
यदि आपकी भाग्यरेखा ऊंगलियों के पास पहुंचकर तर्जनी उंगली की ओर मुड जाती है तो यह दर्शाता है कि ऐसी रेखा वाला व्यक्ति प्रतिष्ठा तथा उच्च पद को प्राप्त करेगा. नौकरी-पेशा में सफलता के साथ ही समाज में भी सम्मान प्राप्त करेगा और स्वभाव में भी अत्यंत परोपकारी तथा दानी होगा. यह रेखा अच्छी मानी जाती है.

हथेली के मध्य में मस्तिष्क रेखा से निकलकर कोई रेखा शनि पर्वत तक पहुंचती हो तो ऐसा व्यक्ति सामान्य परिवार में जन्म लेकर भी अपने परिश्रम, योग्यता और लग्न के साथ सफलता को प्राप्त करते है. शुक्र पर्वत से निकलने वाली रेखा व्यक्ति को कला के क्षेत्र में आगे बढ़ाती है. ऐसे लोगों का भाग्योदय भी इसी क्षेत्र में कार्य करने से ही होता है. ऐसी रेखा वाले व्यक्तियों को अवश्य ही कला संबंधी कार्य ही करने चाहिए.

अगर किसी व्यक्ति की भाग्यरेखा मध्यमा ऊंगली तक है तो ऐसा व्यक्ति जीवन में कठिन परिश्रम करने पर भी कभी सफलताओं को प्राप्त नहीं कर पाता है. उनका जीवन सदैव सुखों के अभाव में बीत जाता है. हमेशा परेशानियों से घिरे रहते है.

हथेली में अच्छी भाग्यरेखा के साथ-साथ शनि उत्तम हो और जीवन रेखा भी घुमावदार हो तो ऐसा व्यक्ति के पास धन, ऐश्वर्य और यश की कोई कमी नहीं होती है. ऐसे व्यक्ति को थोड़े परिश्रम से ही अपार सफलता प्राप्त होती है. भाग्यरेखा पर कई सारी रेखाएं हो तो यह जीवन में समय-समय पर आने वाली परेशानियों को दर्शाता है.