फेसबुक का कबूलनामा, कंपनी यूजर्स द्वारा दिए गए फोन नंबरों का इस्तेमाल विज्ञापन दिखाने के लिए करती है

फेसबुक के डेटा में सेंधमारी का एक और मामला सामने आया है, जिसमें लगभग पांच करोड़ यूजर्स के अकाउंट में सेंधमारी की बात की जा रही है. शुक्रवार को फेसबुक ने कबूल किया है कि यूजर्स द्वारा सुरक्षा कारणों से दिए गए फोन नंबरों का इस्तेमाल कंपनी उन्हें विज्ञापन के लिए टारगेट करने में कर रही है.

फेसबुक ने उन नंबरों का उपयोग किया, जो यूजर्स उसे टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन (2FA) के लिए उपलब्ध कराते है. ये एक सिक्योरिटी सिस्टम है. जो अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए ऑथेंटिकेशन के दूसरे लेयर के तौर पर काम करता है.

फेसबुक ने कबूल किया कि उसकी सुरक्षा में सेंधमारी के कारण 50 मिलियन यानी 5 करोड़ लोगों के अकाउंट पर असर पड़ा. इस सोशल नेटवर्किंग साइट का कहना है. कि उसके कंप्यूटर नेटवर्क पर हमला कर यूजर्स की सूचनाएं हैक की गई. हैकर्स फेसबुक कोड की एक फीचर पर हमला कर यूजर्स के अकाउंट तक पहुंच गए. हालांकि कंपनी ने इस गड़बड़ी को अब दुरुस्त कर लिया है. और सुरक्षा एजेंसियों को इसकी सारी जानकारी दे दी गई है.

शुक्रवार सुबह 9 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स को जबरन लॉगआउट कराया गया ताकि उनके अकाउंट सुरक्षित रखे जा सके. सुरक्षा में सेंधमारी होने पर ऐसी तरकीब अपनाई जाती है. फेसबुक का कहना है कि हमलावरों के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं मिल पाई है.

अभी हाल में ही ब्रिटेन की कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने तकरीबन पौने नौ करोड़ फेसबुक यूजर्स के डेटा चुरा लिया था. फेसबुक के इतिहास में शुक्रवार की हैकिंग सबसे बड़ी घटना मानी जा रही है. कंपनी के दिनोंदिन बढ़ते कद को देखते हुए इसे रेगुलेट करने का दबाव भी बढ़ता जा रहा है.