विपक्ष सदन से भागने के बजाय चर्चा में भाग लें : सीएम रावत

विधानसभा सत्र के प्रथम दिन मंगलवार को विधानसभा में मीडिया से अनौपचारिक वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि विधायकों द्वारा बहुत अच्छे सवाल सदन में उठाये गये हैं, एवं सत्र को चलने में सहयोग दिया है. विधायकों ने अपने प्रश्न सत्र के दौरान सदन में रखे एवं विधायकों को उनके प्रश्नों के जवाब भी दिये गये. उन्होंने कहा कि सामान्यतः बहुत कम ऐसा होता है कि विधायकों द्वारा सत्र में रखे गए सभी सवालों के जवाब मिल पाते हो.

इस तरह काम की दृष्टि से देखा जाए तो पहला दिन काफी अच्छा रहा है. मुख्यमंत्री विधायकों द्वारा उठाये गये सवालों से खुश दिखे, उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की यही खुबी है कि विधायक जनता से जुडे मुद्दे पर सवाल करते हैं. विपक्ष के द्वारा महंगाई पर पूछे गये सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि महंगाई के मुद्दे पर जो भी सवाल विधायकों ने उठायें हैं, चाहें वह तेल पर प्रश्न हो या चाहे खाद्यान्न पर हो उन सभी का जवाब संसदीय कार्य मंत्री द्वारा दिया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि महंगाई पूरी तरह से नियंत्रण पर है जबकि पेट्रोल एवं डीजल की कीमत बढ़ने का कारण अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल का मूल्य बढ़ना है.

विपक्ष के महंगाई के प्रश्न पर वॉकआउट करने के सम्बंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष को वॉक आउट नहीं करना चाहिए बल्कि इस सम्बंध में हुई चर्चा पर भाग लेना चाहिए था. सरकार उनके सवालों को सुन रही है उनको भी धैर्य से जवाब सुनना चाहिए, इसका मतलब यह हुआ कि उनको अपने सवालों के जवाब से मतलब नहीं बल्कि उनका मकसद केवल शोर शराबा करना है. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार हर मुद्दे पर विधानसभा में चर्चा को तैयार हैं, विपक्ष को सदन से वॉकआउट करने के बजाय चर्चा में भाग लेना चाहिए.

मीडिया द्वारा प्रदेश में कानून व्यवस्था के सम्बंध में पूछे गये सवाल के सम्बंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही के दिनों में हुई रेप जैसे जघन्य अपराधों पर पुलिस द्वारा तेजी से कार्यवाही कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. आज हुई हत्या के हत्यारों को पहचान लिया गया है और बहुत जल्द उनकी गिरफ्तारी भी हो जाएगी. उन्होंने कहा कि अपराधों पर नियंत्रण के लिए पुलिस तत्परता से अपना काम कर रही है.