न्यायमूर्ति रंजन गोगोई अगले प्रधान न्यायाधीश नियुक्त

न्यायमूर्ति रंजन गोगोई को गुरुवार को देश का प्रधान न्यायाधीश नियुक्त किया गया. न्यायमूर्ति रंजन गोगोई उन चार न्यायाधीशों में शामिल हैं, जिन्होंने इस साल की शुरुआत में प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की कार्यप्रणाली पर प्रेस कांफ्रेंस कर सवाल उठाया था.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के सेवानिवृत्त होने के बाद न्यायमूर्ति गोगोई 3 अक्टूबर को पदभार ग्रहण करेंगे. सेवानिवृत्ति से पहले वह इस पद पर एक साल से कुछ अधिक दिन तक रहेंगे.

रंजन गोगोई को 23 अप्रैल 2012 को सुप्रीमकोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त किया गया था.

शीर्ष अदालत के वरिष्ठतम तीन न्यायाधीशों न्यायमूर्ति जे.चेलमेश्वर, मदन बी.लोकुर व कुरियन जोसेफ के साथ न्यायमूर्ति गोगोई ने जनवरी में अप्रत्याशित रूप से प्रेस कांफ्रेंस कर प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा द्वारा न्यायाधीशों को मामलों के आवंटन पर सवाल उठाया था.

न्यायमूर्ति रंजन गोगोई का जन्म 18 नवंबर 1954 को हुआ. वह एक वकील के रूप में 1978 में पंजीकृत हुए. उन्होंने गुवाहाटी हाईकोर्ट में संवैधानिक, कर व कंपनी मामलों में वकील की भूमिका निभाई.

उन्हें 28 फरवरी 2001 को गुवाहाटी हाईकोर्ट का स्थाई न्यायाधीश नियुक्त किया गया. उन्हें 12 फरवरी 2011 को पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया.