9/11 आतंकी हमले की 17 वीं बरसी आज, जानें कुछ खास बातें

अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर 9 सितंबर 2001 को आतंकी हमला हुआ था. जिसको मंगलवार 17 सितम्बर 2018 को पूरे 17 साल हो चुके हैं.

इस हमले के लिए चार प्लेन हाइजैक किए गए थे, जिसमें से दो वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर और एक पेंटागन पर गिरा था. जबकि चौथा शेंकविले में खाली मैदान में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. रक्षा विभाग का कहना था कि इसका निशाना व्हाइट हाउस था. विशेषज्ञ कहते हैं कि इसका निशाना सच में राष्ट्रपति भवन था तो फिर सिर्फ यही निशाने पर क्यों नहीं लगा. कहा जाता है कि इस विमान को अमेरिकी सरकार ने सुरक्षित उतरवा लिया था और इसकी जगह टूटा हुआ विमान रख दिया था.

अलकायदा के आतंकियों ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर, पेंटागन और पेंसिलवेनिया में एक साथ हमला किया था. जिसने दुनिया को आतंकवाद के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया. कहा जाता है कि इस आतंकी हमले के पीछे अलकायदा आंतकी प्रमुख ओसामा का नाम आता है. लेकिन अमेरिका ने उसे भी मार गिराया.

जानें 10 खास बातें

1. 11 सितंबर 2001 को लोग दुनिया में 9/11 के रूप में जानते हैं. जिसे आतंकवादी हमला बताया जाता है.

2. अलकायदा आंतकी प्रमुख ओसामा और उसके साथियों ने अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को अपना निशाना बनाया.

3. इस हादसे में 11 सितंबर को 3 हजार लोगों के मारे गिए थे.

4. अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर ही नहीं पेंटागन और पेन्सिलवेनिया पर भी आतंकियों ने निशाना बनाया था. इस घटना को 19 आतंकियों ने एक साथ अंजाम दिया था.

5. आतंकियों ने जो योजना बनाई थी वो कामयाब हुई और उन्होंने चार पैसेंजर एयरक्राफ्ट हाईजैक किए. जिसमें से एक खराब हो गया और तीन ने अमेरिका पर हमला किया गया.

6. अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर ही नहीं वॉशिंगटन डीसी में पेंटागन के वेस्टर्न को भी निशाना बनाया.

7. दो विमान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के टावर से टकराए एक प्लेन नॉर्थ टावर और दूसरा साउथ टावर से टकराया.

8. ओसामा के मौत के बाद उसकी मां ने कहा था कि उनका बेटा बचपन में शर्मीला और अच्छा बच्चा था. लेकिन उनका ब्रेनवॉश किया गया.

9. अमेरिकी राष्ट्रपति के नेतृत्व में पेंटागन ने एक प्लान के तहत अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को 2 मई, 2011 को पाकिस्तान के ऐबटाबाद मेंमार गिराया.

10. अमेरिका से लड़ने के लिए सबसे पहले अल कायदा और उसके बाद फिर इस्लामिक स्टेट जैसे कट्टरपंथी आतंकवादी संगठन खड़े हो गए हैं.