बिहार में ‘भारत बंद’ का परिवहन पर प्रतिकूल असर

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (एससी-एसटी) एक्ट के विरोध में विभिन्न संगठनों द्वारा गुरुवार को बुलाए गए एक दिवसीय ‘भारत बंद’ का बिहार में असर देखा जा रहा है. बंद समर्थकों द्वारा कई स्थानों पर रेल और सड़क मार्ग बाधित कर प्रदर्शन किए जाने से यहां आवागमन पर प्रतिकूल असर देखा गया.

राज्य के गया, पटना, भोजपुर, दरभंगा सहित विभिन्न इलाकों में सवर्ण सड़क पर उतरे और एक्ट के विरोध में नारेबाजी की.

पुलिस के अनुसार, राज्य के विभिन्न हिस्सों में एक दिवसीय ‘भारत बंद’ के दौरान प्रदर्शनकारी सुबह से ही सड़कों पर उतर गए और सड़क जाम कर दिया. सड़कों पर प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाए तथा केंद्र सरकार के विरोध में जमकर नारे लगाए गए.

सवर्ण सेना के लोग दरभंगा, आरा और राजेंद्र नगर टर्मिनल पर रेल मार्ग अवरुद्ध कर दिया जिससे ट्रेनों का परिचालन कुछ समय तक बाधित रहा. पटना के मोकामा में भी बंद समर्थकों द्वारा ट्रेन के रोके जाने की सूचना है.

बेगूसराय में सवणोर्ं ने जिले के कई स्थानीय सड़क को भी जाम कर दिया एवं सरकार विरोधी नारेबाजी कर रहे हैं. वैशाली के लालगंज में सवर्ण के भारत बंद का खासा असर देखने को मिल रहा है. आक्रोशित लोगों ने कई जगह पर मुख्य सड़कों को जाम कर दिया है. प्रदर्शनकारी सड़क पर आगजनी कर हंगामा कर रहे हैं. हाजीपुर-लालगंज मार्ग पर वाहनों का परिचालन पूरी तरह से ठप है.

नालंदा, भोजपुर, गया, सारण जिले में भी बंद समर्थक सड़क पर उतरे और विभिन्न सड़कों को जामकर प्रदर्शन किया. आरा में सरैया रोड पर बंद समर्थकों ने सड़क पर पेड़ गिराकर आवागमन बाधित कर दिया.

लखीसराय में सवणोर्ं ने सभी राष्ट्रीय और राजकीय पथों को जाम कर दिया तथा बाजार बंद कराए.

भारत बंद को लेकर हालांकि राज्य में पुलिस और प्रशासन अलर्ट है. पटना में डाकबंगला चौराहे की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. बिहार के कई स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है.