बसपा जिला पंचायत सदस्य की गोली मारकर की हत्या

उत्तर प्रदेश के मेरठ से बसपा जिला पंचायत सदस्य दिलशाद खान की दिल्ली में गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई. वारदात के पीछे आपसी रंजिश की आशंका जताई जा रही है. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी है. दिलशाद प्रॉपर्टी का काम भी करता था. सोमवार शाम वह बाटला हाउस के पास हरी मस्जिद से नमाज पढ़ने के बाद बाहर निकल रहा था तभी उस पर अंधाधुध फायरिंग शुरू हो गई.

जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. दिलशाद के भतीजे वसीम ने बताया कि उसकी पत्नी रिजवाना, बेटी मरियम, बेटा उमर व अंबार साथ रह रहे थे. हत्या की सूचना मिलते ही परिजन दिल्ली रवाना हो गए हैं. परिजनों के मुताबिक रमजान के दौरान दिलशाद का गांव के ही लोगों से झगड़ा हुआ था. जिसके बाद दिलशाद के ऊपर 307 का मुकदमा दर्ज हुआ था और वह तिहाड़ जेल भी गया था. तिहाड़ में वह 28 दिन रहा और 10 दिन पहले ही जेल से छूटकर वापस आया था.

पुलिस सभी एंगल से जांच कर रही है और यह भी जांच की जा रही है कि क्या हत्यारे वही लोग तो नहीं हैं जिनसे दिलशाद का झगड़ा हुआ था. गौरतलब है कि, दिलशाद खान ने बहुजन समाज पार्टी के चुनाव चिह्न पर मेरठ के वार्ड नंबर-34 से जिला पंचायत का चुनाव लड़ा था.