साउथैम्पटन टेस्ट : फॉर्म में लौटी टीम इंडिया की नजर सीरीज में बराबरी पर

साउथैम्पटन|… ट्रेंट ब्रिज पर खेले गए तीसरे मैच में जीत हासिल कर पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में वापसी करने वाली टीम इंडिया गुरुवार से शुरू हो रहे चौथे मैच में जीत हासिल कर सीरीज को 2-2 की बराबरी पर लाने के इरादे से उतरेगी. इंग्लैंड की टीम के लिए यह मैच सीरीज जीतने का मौका है जिसमें वो किसी भी तरह कसर नहीं छोड़ना चाहेगी.

टीम इंडिया ने पिछले मैच में शानदार प्रदर्शन कर जीत हासिल की थी. टेस्ट की नंबर-1 टीम कोशिश करेगी कि वह अपने उसी प्रदर्शन को बरकरार रखे. इस मैच में कप्तान विराट कोहली बिना किसी बदलाव के उतर सकते हैं और अगर ऐसा होता है तो यह पहली बार होगा की कोहली टेस्ट में अपनी कप्तानी में मैच में अंतिम एकादश में बिना किसी बदलाव के उतरेंगे.

कोहली ने अभी तक 38 मैचों में कप्तानी की है और किसी भी मैच में उनका अंतिम एकादश एक जैसा नहीं रहा है.रविचंद्रन अश्विन तीसरे मैच के बाद चोटिल हो गए थे, लेकिन वह दो दिनों से नेट पर बिना किसी दिक्कत के गेंदबाजी कर रहे हैं. ऐसे में उम्मीद है कि यह ऑफ स्पिनर चौथे मैच में भी खेलता नजर आएगा.

कोहली इस सीरीज में शानदार फॉर्म में हैं और दो शतक जमा चुके हैं. वह इंग्लैंड के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं. तीसरे मैच में चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे ने भी अच्छी पारियां खेल फॉर्म में वापसी कर ली है. तीनों के फॉर्म में होने से टीम इंडिया मध्यक्रम मजबूत नजर आ रहा है.

सलामी जोड़ी की बात की जाए तो शिखर धवन और लोकेश राहुल ने तीसरे मैच में बड़ी पारियां तो नहीं खेलीं थीं लेकिन टीम को अच्छी शुरुआत दी थी.

युवा बल्लेबाज और विकेटकीपर ऋषभ पंत ने रन तो ज्यादा नहीं किए थे लेकिन अपने खेल से प्रभावित किया था. पंत भी चाहेंगे की वह अहम मैच में बड़ी पारी खेल टीम में योगदान दें. निचले क्रम में हार्दिक पांड्या का बल्ला भी रन करने लगा है.

टीम इंडिया की गेंदबाजी जसप्रीत बुमराह के आने से मजबूत हो गई. पहले दो टेस्ट मैचों से बाहर बुमराह ने तीसरे मैच में शानदार प्रदर्शन किया था. वह टीम की गेंदबाजी की धुरी होंगे. उनके अलावा ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी भी शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. चौथे तेज गेंदबाज के रूप में टीम इंडिया के पास पांड्या का विकल्प है. स्पिन का दारोमदार अश्विन पर होने के आसार हैं.

बाकी दो मैचों के लिए सलामी बल्लेबाज मुरली विजय को बाहर कर युवा प्रतिभा पृथ्वी शॉ और कुलदीप यादव के स्थान पर हनुमा विहारी को टीम में जगह मिली है.

इंग्लैंड की बात की जाए तो उसने अपनी अंतिम-11 टीम की घोषणा बुधवार शाम कर दी. उंगली की चोट से जूझ रहे जॉनी बेयरस्टो को टीम में चुना गया है लेकिन वह सिर्फ बल्लेबाज के तौर पर खेलेंगे. विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी जोस बटलर पर होगी.

क्रिस वोक्स को जांघ में समस्या होने के कारण बाहर जाना पड़ा है. उनके स्थान पर सैम कुरैन टीम में आए हैं. ओली पोप के स्थान पर हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली को टीम में चुना गया.

टीमें :

टीम इंडिया-: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, पृथ्वी शॉ, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे (उप-कप्तान), करुण नायर, दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा, हार्दिक पांड्या, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, जसप्रीत बुमराह, शार्दूल ठाकुर, हनुमा विहारी.

इंग्लैंड -: जोए रूट (कप्तान), मोइन अली, जेम्स एंडरसन, जॉनी बेयरस्टो, स्टुअर्ट ब्रॉड, जोस बटलर (विकेटकीपर), एलिस्टर कुक, सैम कुरेन, बेन स्टोक्स, कीटन जेनिंग्स,आदिल राशिद.