केरल त्रासदी पर संकीर्ण राजनीति कर रही मोदी सरकार : मायावती

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती ने मोदी सरकार पर भीषण आपदा प्रभावित केरल राज्य के साथ सौतेला बर्ताव करने का आरोप लगाया. उन्होंने मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार केरल को पर्याप्त सहायता नहीं देकर संकीर्ण राजनीति कर रही है. उन्होंने सरकार से केरल की इस त्रासदी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की.

मंगलवार को जारी अपने बयान में मायावती ने कहा कि केरल के लाखों परिवार भीषण बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं, लेकिन केंद्र सरकार इस गैर-भाजपा शासित राज्य के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है. उनकी पार्टी इसकी घोर निंदा करती है.

बसपा प्रमुख ने कहा कि केंद्र सरकार जल्द से जल्द बाढ़ पीड़ित राज्य केरल में ‘राष्ट्रीय आपदा’ घोषित करे. इसके साथ ही इस आपदा की स्थिति से निपटने के लिए केरल सरकार को पर्याप्त मदद देने के साथ वहां के लोगों को राहत, सहायता व पुनर्वास में सहयोग करे.

मायावती ने कहा कि देश का हर नागरिक केरल के लाखों परिवार को अपने-अपने स्तर से कुछ न कुछ देने को तैयार है. ऐसी स्थिति में केंद्र सरकार को भी सार्थक पहल करनी चाहिए.

उन्होंन कहा कि केरल के प्रति केंद्र सरकार का रवैया पूरी तरह से गंभीर तथा संवेदनशील नहीं होकर काफी उदासीन लगता है. केंद्र सरकार केरल की भीषण तबाही को ना तो राष्ट्रीय आपदा घोषित कर रही है और ना ही इस राज्य को अपने स्तर पर अतिरिक्त संसाधन जुटाने के लिए स्टेट जीएसटी के तहत उपकर लगाने की अनुमति देने के मामले में गंभीरता दिखा रही है. यह केंद्र की संकीर्ण राजनीति नहीं तो और क्या है.

मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार की घोर उदासीनता व निष्क्रियता का ही परिणाम है कि केरल के मुख्यमंत्री को दुनियाभर में रहने वाले केरलवासियों से सहायता के साथ सहयोग करने की अपील करनी पड़ी है. केरल के करीब 10 लाख परिवारों ने अपना घर-बार खो दिया है. वहां महाविपत्ति का माहौल है.

उन्होंने कहा कि ऐसी घोर विपत्ति के समय में केंद्र सरकार के साथ-साथ विभिन्न राज्यों की सरकारों को भी राजनीतिक संकीर्णता भुलाकर आगे आना चाहिए. बसपा मुखिया ने अपनी दक्षिण भारत जोन की सभी राज्य यूनिट व शाखा को केरल की इस प्राकृतिक आपदा से निपटने को तन, मन, धन से पूरा-पूरा सहयोग करने का निर्देश दिया है.