नीरव मोदी ब्रिटेन में, सीबीआई ने प्रत्यर्पण के लिए पहल की

इंटरपोल द्वारा भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के ब्रिटेन में होने की पुष्टि किए जाने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने उसे हिरासत में लेने व उसके भारत प्रत्यर्पण के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है. मोदी 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी मामले में वांछित है. सीबीआई के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

अधिकारी के मुताबिक, ब्रिटिश प्रशासन ने एक ई-मेल के माध्यम से रविवार को नीरव मोदी की देश में मौजूदगी की पुष्टि की है. यह पुष्टि जांच एजेंसी द्वारा इंटरपोल को मोदी के खिलाफ जारी किए गए डिफ्यूजन नोटिस के आधार पर की गई है.

डिफ्यूजन नोटिस किसी एक खास व्यक्ति की गिरफ्तारी के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय अलर्ट है. अधिकारी ने कहा कि ब्रिटेन के अधिकारियों से संपर्क करने के लिए सीबीआई ने सोमवार को गृह मंत्रालय को प्रत्यर्पण का एक अनुरोध भेजा है.

सीबीआई अधिकारी ने कहा कि एजेंसी ने इंटरपोल से नीरव मोदी को उसके खिलाफ जारी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर हिरासत में लेने का अनुरोध किया है. इससे पहले नीरव मोदी की स्थिति का पता नहीं लगाया जा सका था.

इंटरपोल ने दो महीने पहले खुलासा किया था कि गृह मंत्रालय द्वारा रद्द किए गए पासपोर्ट पर मोदी छह देशों की यात्रा कर चुका था.

इंटरपोल ने दो जुलाई को नीरव मोदी के खिलाफ धनशोधन के आरोपों के तहत रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था. धनशोधन के आरोप प्रवर्तन निदेशालय द्वारा लगाए गए हैं.

इससे पहले दो अगस्त को विदेश राज्य मंत्री वी.के. सिंह ने संसद को सूचित किया था कि सरकार ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन को अनुरोध भेज दिया है.