भाजपा मुख्यालय के बाहर अग्निवेश को पीटा, पुलिस में शिकायत दर्ज

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मुख्यालय के बाहर शुक्रवार को सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश को अपमानित किया गया, अपशब्द कहे गए और पीटा गया. स्वामी अग्निवेश पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे. भाजपा मुख्यालय में वाजपेयी का पार्थिव शरीर श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए रखा गया था.

स्वामी अग्निवेश (79) के दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर भाजपा दफ्तर पर पहुंचने के तुंरत बाद लोगों के एक समूह ने उनके खिलाफ नारेबाजी करते हुए उन्हें वापस जाने को कहा.

समाचार चैनलों द्वारा प्रसारित फुटेज में उन्हें भागते हुए और कुछ लोगों द्वारा उनका पीछा करते देखा जा सकता है. ऐसा माना जा रहा है कि ये भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता थे. पीछा कर रहे लोगों ने बाद में अग्निवेश की पिटाई कर दी. इसके बाद दिल्ली पुलिस ने पूर्व सांसद अग्निवेश को गाड़ी में बैठा लिया और उन्हें सुरक्षित ले गई.

बाद में अग्निवेश के समर्थकों ने करीब 20 लोगों के खिलाफ पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई और उनके लिए सुरक्षा की मांग की.

अग्निवेश के सहयोगी विष्णु पॉल ने अपनी शिकायत में कहा, “जब अग्निवेश भाजपा मुख्यालय के बाहर पहुंचे तो भाजपा कार्यकर्ताओं के एक समूह ने उन्हें रोक दिया और पीछे धकेलना शुरू कर दिया. उन्होंने उन्हें पार्टी कार्यालय में प्रवेश करने से रोका और यहां तक कि उनकी पगड़ी को हटाने की कोशिश की.”

पॉल ने कहा, “उन्होंने अग्निवेश को अपमानित किया, थप्पड़ मारा और चप्पल से मारा. इस दौरान वहां पांच से छह पुलिसकर्मी मौजूद थे, लेकिन कोई उन्हें बचाने नहीं आया. आखिरकार हमने पुलिस नियंत्रण कक्ष को सूचित किया.”

संयुक्त पुलिस आयुक्त अजय चौधरी ने मीडिया से कहा, “अगर हमले के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई गई है तो हम वैध कार्रवाई करेंगे. लेकिन जहां यह अपराध हुआ है, वह दिल्ली पुलिस के केंद्रीय जिले के अधिकार में आता है. अग्निवेश को वहां भी शिकायत करनी चाहिए.”

अग्निवेश पर हाल में झारखंड के पाकुड़ जिले में 17 जुलाई को एक गांव में सार्वजनिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए जाते हुए हमला किया गया था. यह हमला कथित तौर पर भाजपा के युवा मोर्चा व छात्र संगठन एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने किया था.