आज है महान गायक-संगीतकार किशोर कुमार का जन्मदिन

किशोर कुमार का जन्म 4 अगस्त 1929 को बंगाली परिवार में हुआ था. किशोर कुमार ने अपने फिल्म करियर में करीब 1500 से ज्यादा गाने गाये. 70-80 के दसक के बीच जितने लोंगो ने मोहम्मद रफी की आवाज को पसंद किया उतना ही किशोर कुमार की आवाज को भी पसंद किया गया.

किशोर ने अपनी आवाज से लाखों दिलों को छूकर अपना बनाया. फिल्म जगत के हरफनमौला कलाकार किशोर कुमार का मन बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई से ज्यादा गीत-संगीत में रहता था. उनकी हाई स्कूल परीक्षा की मार्कशीट इस बात की गवाह देती है. जिसमे उन्हें छह विषयों में कुल 800 में से 326 अंक मिले थे और वह तृतीय श्रेणी में पास हुए थे. इस मार्कशीट की प्रति को इंदौर के क्रिश्चियन कॉलेज में इतिहास के प्रोफेसर स्वरूप बाजपेई ने किशोर की यादों के साथ करीने से संजोकर रखा है. उन्होंने किशोर कुमार की 89वीं जयंती की पूर्व संध्या पर एक चैनल को बताया, किशोर की अंकसूची की यह प्रति हमारे कॉलेज की दशकों पुरानी फाइलों में दबी पड़ी थी जिस पर धूल की मोटी परत चढ़ गई थी.

हमने इसे ढूंढ निकाला, क्योंकि यह दस्तावेज एक महान कलाकार के विद्यार्थी जीवन के अहम पड़ाव से जुड़ा है. बाजपेई ने बताया कि खंडवा के मूल निवासी किशोर कुमार जब वर्ष 1946 में मैट्रिक पास कर इंटरमीडिएट में पहुंचे, तो उनके पिता कुंजलाल गांगुली ने उनका दाखिला इंदौर के क्रिश्चियन कॉलेज में करा दिया था. क्रिश्चियन कॉलेज में बरसों से इतिहास पढ़ा रहे बाजपेई के पास अपने संस्थान के इस पूर्व छात्र के दिलचस्प किस्सों की लम्बी फेहरिस्त है, जो बाद में भारतीय फिल्म जगत का बड़ा सितारा बना. वह बताते है की कॉलेज में पढ़ाई के दौरान ही किशोर ने तय कर लिया था कि उन्हें जीवन में क्या करना है.

साहित्यिक-सांस्कृतिक गतिविधियों से जुड़ी महाविद्यालयीन संस्था बज्म-ए-अदब की कार्यकारिणी में भी किशोर शामिल थे. इस पर किशोर ने अपने अध्यापक को मुस्कुराते हुए जवाब दिया था कि इसी गाने-बजाने से उनके जीवन का गुजारा होगा. चार अगस्त 1929 को मध्यप्रदेश (तब मध्य प्रांत एवं बरार) के खंडवा में पैदा हुए किशोर का वास्तविक नाम आभास कुमार गांगुली था. उनका निधन 13 अक्तूबर 1987 को मुंबई में हुआ था.