2019 में ममता बनर्जी बीजेपी को हराने के ख़िलाफ़ बना रही हैं ये ‘रणनीति’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है. कि 2019 में बीजेपी के ख़िलाफ़ विपक्ष का साझा नेतृत्व होगा. ममता बनर्जी अपने तीन दिन के दौरे पर दिल्ली में हैं. जहां वो बुधवार को कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगी.

वहीं दूसरे विपक्षी दलों के नेताओं से भी ममता मिलेंगीं. ममता बनर्जी संसद में दोपहर 12.30 से शाम चार बजे तक विपक्षी दलों के सांसदों से मिलेंगी. वहीं तृणमूल के सांसदों से संसद में मुलाकात करेंगी. शाम पांच बजे वह सोनिया गांधी से उनके घर मिलने जाएंगी.

शाम छह बजे कर्नाटक भवन में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से मुलाकात करेंगी. वहीं रात आठ बजे साउथ एवेन्‍यु में दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात करेंगी. अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का ऐलान नहीं किये जाने का संकेत देते हुए तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा था कि बीजेपी से मुकाबले के लिए विपक्षी मोर्चा सामूहिक नेतृत्व के साथ चुनाव में उतरेगा.

नयी दिल्ली की तीन दिन की यात्रा के तहत बनर्जी बुधवार को कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी और विपक्ष के अन्य प्रमुख नेताओं से मुलाकात करेंगी. वह उन्हें अगले साल 19 जनवरी को कोलकाता में अपनी रैली में शामिल होने के लिए आमंत्रित भी करेंगी. उनकी इस रैली का लक्ष्य विपक्षी एकता का प्रदर्शन है. बनर्जी ने संवाददाताओं से कहा, “2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा का मुकाबला करने के लिए सामूहिक नेतृत्व होगा. मैं सभी विपक्षी नेताओं से मुलाकात करूंगी और उन्हें रैली के लिए आमंत्रित करूंगी. मैं बुधवार को कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से भी मिलूंगी.

”तृणमूल नेता से सवाल किया गया था कि क्या प्रस्तावित भाजपा विरोधी मोर्चे के लिए उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया जा सकता है. बनर्जी को एक मजबूत दावेदार के तौर पर देखा जा रहा है. 19 जनवरी की रैली को विपक्ष में बनर्जी की स्थिति को और मजबूत करने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है. कांग्रेस पहले ही यह संकेत दे चुकी है कि वह गैर आरएसएस समर्थित किसी भी दल के किसी नेता को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाये जाने के खिलाफ नहीं है.