जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में सैनेटरी नैपकिन को किया जीएसटी से बाहर, ये प्रोडेक्ट भी हुए सस्‍ते

शनिवार को केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में दिल्ली के विज्ञान भवन में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स (जीएसटी) काउंसिल की 28वीं मीटिंग हुई. इस मीटिंग मंत्री पीयूष गोयल ने महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं.

इस मीटिंग के दौरान काउंसिल ने सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी के दायरे से बाहर कर दिया है. मीटिंग में शामिल हुए दिल्‍ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि सैनेटरी नैपकिन अब जीएसटी से फ्री है.

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि मैं मानता हूं कि 28 फीसदी टैक्स स्लैंब को खत्म कर दिया जाए. इस मामले को बेवजह घसीटा जा रहा है. टैक्स रिटर्न को लेकर उन्होंने कहा कि पांच करोड़ रुपये तक वाले ट्रेडर्स के लिए तिमाही रिटर्न को जीएसटी काउंसिल ने मंजूरी दे दी है. हालांकि, चीनी पर सेस को लेकर कोई फैसला नहीं हुआ है.

ये प्रोडेक्ट हुए सस्‍ते
टीवी, वॉशिंग मशीन, रिफ़्रिजरेटर, विडियो गेम्स लिथियम आयन बैट्रीज, वैक्यूम क्लीनर, फूड ग्राइंडर, मिक्सर, स्टोरेज वॉटर हीटर, ड्रायर, पेंट, वॉटर कूलर, मिल्क कूलर, आइसक्रीम कूलर्स, परफ्यूम, टॉइलट स्प्रे को 28 फीसदी टैक्स स्लैब से हटाकर 18 फीसदी टैक्स स्लैब में लाया गया है.

12 फीसदी
वित्त मंत्री ने कहा कि हैंडबैग्स, जूलरी बॉक्स, पेटिंग के लिए लकड़ी के बॉक्स, आर्टवेयर ग्लास, हाथ से बने लैंप पर टैक्स घटाकर 12 फीसदी करने का फैसला किया गया है.

5 फीसदी
एथेनॉल पर भी टैक्स को घटाकर 5 फीसदी किया गया है. इससे चीनी उद्योग और किसानों को फायदा होगा. इसके अलावा 1000 रुपए तक के फुटवेयर पर अब 5 फीसदी टैक्स लगेगा, पहले यह राशि 500 रुपए थी.