पीएम मोदी ने अविश्‍वास प्रस्‍ताव की वोटिंग से पहले ट्वीट कर कहा, ‘आज हमारे संसदीय लोकतंत्र का है एक महत्वपूर्ण दिन’

शुक्रवार को मोदी सरकार पहले अविश्‍वास प्रस्‍ताव का सामना करेगी. संसद में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा करने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत कई केंद्रीय मंत्री संसद पहुंचे. बीजेपी नेताओं के साथ संसद पहुंचे अमित शाह ने कैमरे को देखकर विक्ट्री साइन दिखाया. इस दौरान अमित शाह के चेहरे पर अविश्वास प्रस्ताव को जीतने का आत्म विश्वास साफ तौर पर देखा जा सकता था. अविश्वास प्रस्ताव के पेश होने से पहले पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर कांग्रेस को शुभकामानएं दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा, ‘आज हमारे संसदीय लोकतंत्र में एक महत्वपूर्ण दिन है, मुझे यकीन है कि मेरे साथी सांसद सहयोगी इस अवसर पर उभरेंगे और एक रचनात्मक, व्यापक और व्यवधान मुक्त बहस सुनिश्चित करेंगे. हम लोगों और हमारे संविधान के निर्माताओं को इसका श्रेय देते हैं. आज भारत की जनता हमें करीब से देखेगी.लोकसभा में शुक्रवार को सुबह 11 बजे से लेकर शाम छह बजे तक लगातार भाषणों का दौर चलेगा. अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने वाली मुख्‍य पार्टी टीडीपी लोकसभा में इस पर चर्चा की शुरुआत करेगी. पार्टी की ओर से सांसद जयदेव गाला बहस की शुरुआत करेंगे. उन्‍हें सदन में बोलने के लिए 13 मिनट का समय दिया गया है, लेकिन सभी की निगाहें कांग्रेस पर होंगी.

कांग्रेस को इस बहस में बोलने के लिए 38 मिनट दिए गए हैं. इस बहस में राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस की ओर से मल्लिकार्जुन खड़गे और ज्योतिरादित्य सिंधिया बोलेंगे.मुलायम सिंह यादव अपने सांसद भतीजे धर्मेंद्र यादव के साथ संसद भवन पहुंचे. अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा से पहले शिवसेना की संसदीय दल की बैठक हुई. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमित शाह और राजनाथ सिंह के साथ बैठक की. जानकारी के मुताबिक, सत्र की शुरुआत से पहले शिवसेना की बैठक में फैसला लिया गया है कि वह अविश्वास पत्र की वोटिंग में हिस्सा नहीं लेंगे.