तेदेपा ने मोदी सरकार के खिलाफ केजरीवाल से मांगा समर्थन

तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के नेताओं के एक प्रतिनिमंडल ने गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से लोकसभा में तेदेपा द्वारा लाए गए मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर समर्थन मांगा.

तेदेपा संसदीय दल के नेता वाई.एस. चौधरी की अगुवाई में राज्य के मंत्री टी.जी.वेंकटेश, के. नारायण व नरसिम्हा राव ने केजरीवाल से मुलाकात की और मोदी सरकार के खिलाफ संसद के दोनों सदनों में आम आदमी पार्टी (आप) का समर्थन मांगा.

इस दल ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन.चंद्रबाबू नायडू के एक पत्र के साथ एक पुस्तिका केजरीवाल को सौंपी. यह पुस्तिका भारतीय जनता पार्टी द्वारा आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने से इनकार करने के मुद्दे पर केंद्रित है.

चौधरी ने मीडिया से कहा कि केजरीवाल ने तेदेपा के विचार से सहमति जताई और उनकी समस्याओं को वास्तविक बताया. उन्होंने कहा, “आज (गुरुवार) को हमने केजरीवाल से मुलाकात की और केंद्र द्वारा संसद में किए गए वादे के क्रियान्वयन में देरी की वजह से आंध्र प्रदेश के समक्ष उत्पन्न समस्याओं पर चर्चा की.”

उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री ने सहमति जताई. और हमारी समस्याओं को वास्तविक बताया.” तेदेपा ने आंध्र प्रदेश को विशेष श्रेणी का दर्जा देने से इनकार करने के बाद केंद्र की भाजपा सरकार से अपना गठबंधन तोड़ लिया.

चौधरी ने कहा, “राज्य में सत्ता में होने के बावजूद हमारी केंद्र सरकार से अपील का कोई परिणाम नहीं मिला. देश में एक सहकारी संघीय प्रणाली है, इसलिए केंद्र को राज्यों के साथ मिलकर मुद्दों को हल करने के लिए काम करना होता है. चूंकि केंद्र सरकार इस सिद्धांत का अनुसरण करने में विफल हुई है, इसलिए हम मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने जा रहे हैं.”

अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान शुक्रवार को होगा. आप के लोकसभा व राज्यसभा, दोनों में सदस्य हैं.