अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि है और यहां सिर्फ राम मंदिर का ही निर्माण होगा : वसीम रिजवी

उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने  अयोध्या राम मंदिर के निर्माण को लेकर वकालत की है. एएनआई के मुताबिक, शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कहा कि अयोध्या में इधर कोई मस्जिद नहीं थी और ना ही कोई मस्जिद हो सकती है.

उन्होंने आगे कहा कि ये भगवान राम की जन्मभूमि है और सिर्फ यहां राम मंदिर का ही निर्माण होगा. बाबर ने सहानुभूति पाने के लिए इसको खत्म किया. बता दें कि कुछ दिन पहले ही वसीम रिजवी को चरमपंथी आतंकी संगठन द्वारा जान से मारने की धमकी दी गई थी.

उन्हें धमकी भरे ईमेल भी आए थे. उन्हें ये धमकी पाक के आतंकी संगठन जमाते इस्लामी द्वारा दी गई थी. इस धमकी के बाद वसीम रिजवी ने कहा था कि जरूरत हो तो मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाया जाए. जिसके बाद से वो हमेशा विवादों में रहे.

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने एक वीडियो जारी करते हुए कहा, बाबर के जमाने में राम मंदिरों को तोड़ा गया था अब वो दूबारा बन पाएगे. उन्होंने कहा अयोध्या में न तो कभी मस्जिद थी और न है और न कभी वहां मस्जिद बन पाएगी. क्योंकि वह रामजन्म भूमि है इसलिए वहां राम मंदिर ही बनना चाहिए.

वहीं, मुसलमानों और सुन्नी वक्फ बोर्ड की ओर से पेश सीनियर ऐडवोकेट राजीव धवन ने अयोध्या मामले पर कहा, ‘शिया वक्फ बोर्ड के पास इस मामले में बात करने के लिए कोई सबूत नहीं है. उन्होंने कहा, बामियान बुद्ध की मूर्तियों को मुस्लिम तालिबान ने नष्ट किया था और बाबरी मस्जिद को हिंदू तालिबान की ओर से ध्वस्त किया गया.”