बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने समलैंगिकता को बताया ‘हिंदुत्व विरोधी’

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में पांच जजों की संविधान पीठ आज समलैंगिकता को अपराध बनाने वाली आईपीसी धारा 377 को अंसवैधानिक करार देने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है.

इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने समलैंगिकता को ‘हिंदुत्व विरोधी’ बताते हुए और ऐसी इच्छा रखने वाले लोगों का इलाज कराने की बात की है.

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि यह सामान्य बात नहीं है, हम इसका जश्न नहीं मना सकते हैं. उन्होंने आगे कहा कि ये हिंदुत्व के खिलाफ है. हमें यह देखने के लिए चिकित्सा अनुसंधान में धन लगाकर मालूम करना चाहिए कि इसका इलाज हो सकता है या नहीं.

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सरकार को इस पर विचार करना चाहिए इस बारे में फैसला देने के लिए 7 या 9 न्यायाधीश की बेंच हो। आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में समलैंगिकता को अपराध बनाने वाली आईपीसी की धारा 377 खत्म करने के लिए दायर याचिकाओं पर मंगलवार से सुनवाई हो रही है.