जम्मू कश्मीर: भाजपा-पीडीपी गठबंधन टूटा, अल्पमत में महबूबा मुफ्ती सरकार

मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने  पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के साथ गठबंधन समाप्त कर दिया और पीडीपी की अगुवाई वाली जम्मू एवं कश्मीर सरकार से अलग हो गई. बीजेपी ने राज्य में राज्यपाल शासन की मांग की है. बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य से सीजफायर खत्म करने के फैसले के बाद दोनों दलों में तनातनी काफी बढ़ गई थी.

मंगलवार को बीजेपी की कोर ग्रुप की बैठक में इस बारे में फैसला किया गया. बीजेपी चीफ अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ बैठक करने के बाद इस बारे में अंतिम निर्णय लिया. बता दें कि राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात चौधरी की हत्या के बाद राज्य में दोनों दलों के बीच रिश्ते काफी बिगड़ गए थे.

बीजेपी के महासचिव राम माधव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीडीपी सरकार से समर्थन वापस लेने की घोषणा की. उन्होंने कहा, ‘हमने जनता के समर्थन के बाद पीडीपी के साथ सरकार चलाने का निर्णय लिया गया था.’ उन्होंने कहा कि गठबंधन में आगे चलते रहना मुश्किल हो गया है. उन्होंने कहा कि राज्य में आतंकवाद बढ़ गया है। बीजेपी ने राज्य में राज्यपाल शासन की मांग की है. माधव ने कहा, ‘पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी चीफ अमित शाह की सहमति के बाद यह फैसला किया गया. श्रीनगर में एक बड़े पत्रकार की हत्या हो गई. केंद्र ने जम्मू-कश्मीर सरकार को हर तरह से मदद की.

उन्होंने कहा, ‘तीन साल सरकार चलाने के बाद हम इस सहमति पर पहुंचे हैं कि कश्मीर में जो परिस्थिति उत्पन्न है उसपर नियंत्रण के लिए हम अलग हो रहे हैं. पीडीपी ने अड़चन डालने का काम किया. दायित्व निभाने में महबूबा मुफ्ती नाकाम रही हैं. महबूबा घाटी में हालात संभालने में असफल रहीं.’