सुप्रीमकोर्ट का यूपीपीएससी की मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने से इनकार

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) अब विभिन्न पदों के लिए मुख्य परीक्षा आयोजित कर सकता है क्योंकि सुप्रीमकोर्ट ने गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट के उत्तर-पत्रों के पुनर्मूल्यांकन के निर्देश को चुनौती देने वाली अपील स्वीकार कर ली है.

हाईकोर्ट ने सवालों के सही जवाब के आधार पर उम्मीदवारों के उत्तर पत्रों के पुनर्मूल्यांकन का आदेश दिया था. सुप्रीमकोर्ट ने गुरुवार को अपने आदेश में हाईकोर्ट के पुनर्मूल्यांकन के आदेश को खारिज कर दिया.

न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने यूपीपीएससी की याचिका स्वीकार कर ली.

प्रारंभिक परीक्षा 2017 में हुई थी और मुख्य परीक्षा 18 जून को होगी.

इससे पहले 18 मई को मुख्य परीक्षाएं आयोजित की गई थी लेकिन उत्तर-पत्रों के पुनर्मूल्यांकन के हाईकोर्ट के आदेश की वजह से परीक्षा 18 जून के लिए फिर से निर्धारित की गई थी.