इंदौर में भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारी, अस्पताल में मौत

संत भय्यूजी महाराज (यशवंत राव देशमुख) ने मंगलवार को अपने खंडवा रोड स्थित आवास पर खुद को गोली मार ली है. उन्हें घायल अवस्था में इंदौर के बॉम्बे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी मौत हो गई है.

खुदकुशी के कारण का पता नहीं चल सका है. भय्यूजी ने पहली पत्नी की मौत के बाद पिछले साल ही दूसरी शादी की थी. इंदौर पुलिस के इंस्पेक्टर जयंत राठौड़ ने बताया कि भय्यूजी ने खुद को सिर में गोली मारी. अभी पता नहीं चल सका है कि भय्यूजी ने यह कदम किन परिस्थितियों में उठाया. अस्पताल में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है.

बता दें कि भय्यूजी राजनीति में गहरी पैठ रखते थे। हाल ही में शिवराज सरकार ने उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा भी दिया था.हालांकि, उन्होंने मध्य प्रदेश सरकार के इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया था. उन्होंने कहा था कि संतों के लिए पद का महत्व नहीं होता. हमारे लिए लोगों की सेवा का महत्व है.

भय्यूजी महाराज का सभी राजनीतिक दलों में दखल रहा है. कांग्रेस और संघ के लोगों से उनके करीबी रिश्ते रहे हैं. वे लगातार समाज के लिए कई प्रकल्प चला रहे हैं.