सीएम योगी के मुख्य सचिव पर लगा 25 लाख रुपए रिश्वत मांगने का आरोप

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के प्रमुख सचिव एसपी गोयल पर 25 लाख रुपए रिश्वत मांगने का आरोप लगा है. यह आरोप लखनऊ के रहने वाले 24 वर्षीय अभिषेक गुप्ता नाम के युवक ने लगाया है. पीड़ित अभिषेक ने मीडिया से कहा कि मुख्य सचिव एसपी गोयल ने उनसे पहले अप्रत्यक्ष रूप से रिश्वत मांगी, बाद में खुले तौर पर 25 लाख रुपए की मांग की.

अभिषेक को गुप्ता एक पेट्रोल पंप खोलना चाहते हैं, लेकिन सरकारी कामों आ रही अड़चनों से निपटने के लिए उन्होंने प्रमुख सचिव से मुलाकात की थी, लेकिन मुख्य सचिव ने अभिषेक से रिश्वत की मांग. रिश्वत का खुलास उस वक्त हुआ जब 30 अप्रैल को यूपी के राज्यपाल राम नाईक ने इस मामले की जांच की सिफारिश सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर की थी.

लेकिन योगी प्रशासन और भाजपा अभिषेक गुप्ता को जेल भिजवाने की फिराक में है. अभिषेक गुप्ता के खिलाफ 7 जून की रात को भाजपा ने लखनऊ के हजरतगंज थाने में एफआइआर दर्ज की गई है. बताया जा रहा है कि अभिषेक ने पेट्रोल पंप के लिए मुख्य सड़क के पास जमीन के लिए प्रशासन को अर्जी दी थी. अभिषेक गुप्ता की अर्जी को लेखपाल, एसडीएम और एडीएम तक ने मंजूरी दे थी.

लेकिन जब फाइल मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंची तो प्रमुख सचिव ने अभिषेक का प्रस्ताव खारिज कर दिया. अभिषेक गुप्ता का आरोप है कि फाइल पास करने के लिए प्रमुख सचिव की तरफ से 25 लाख रुपये की रिश्वत मांगी गई थी, और पैसा नहीं देने पर फाइल रोक दी गई.