दिल्ली से वाराणसी के बीच दौड़ सकती है बुलेट ट्रेन

सांकेतिक तस्वीर

मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट पर भले ही निर्माण ने अभी रफ्तार न पकड़ी हो, लेकिन अब बुलेट ट्रेन के दूसरे कॉरिडोर को लेकर विचार-विमर्श शुरू हो गया है. बुलेट ट्रेन का दूसरा कॉरिडोर दिल्ली और वाराणसी के बीच हो सकता है. उम्मीद की जा रही है कि लोकसभा चुनाव से पहले इस प्रस्तावित कॉरिडोर का ऐलान हो सकता है. यूपी के इस कॉरिडोर की घोषणा राजनीतिक लिहाज से मास्टर स्ट्रोक साबित हो सकता है.

इंडियन रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, हालांकि अभी इस पर कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है, लेकिन बुलेट ट्रेन के जो कॉरिडोर तैयार करने पर विचार हो रहा है, उनमें दिल्ली-वाराणसी प्रमुख है। दरअसल, सरकार को लग रहा है कि बुलेट ट्रेन के इस कॉरिडोर से नरेंद्र मोदी सरकार की विकास की छवि को और मजबूती मिलेगी और राजनीतिक लिहाज से भी बीजेपी के लिए सबसे ज्यादा लोकसभा सीटों वाले राज्य यूपी में इस घोषणा का फायदा मिल सकता है।

दिल्ली और वाराणसी के बीच की रेल से दूरी लगभग 750 किमी की है। रेलवे पहले ही इस बात की तैयारी कर रहा है कि बुलेट ट्रेन के बहुत लंबे कॉरिडोर बनाने की बजाय पांच सौ से आठ सौ किमी के कॉरिडोर बनाए जाएं। फिर उन्हें आगे जोड़ा जाए। इसका फायदा यह होगा कि इससे निर्माण कार्य में ज्यादा लंबा वक्त नहीं लगेगा और खर्च भी एक सीमा तक ही आएगा।