अगवा सॉफ्टवेयर इंजीनियर को एसटीएफ ने गाजियाबाद से छुड़ाया

एक सप्ताह पहले यहां से अगवा किए गए सॉफ्टवेयर इंजीनियर को उत्तर प्रदेश पुलिस और इसकी विशेष टास्क फोर्स (एसटीएफ) के संयुक्त अभियान में शुक्रवार को मुक्त करा लिया गया. एचसीएल के इंजीनियर राजीव कुमार का नोएडा कार्यालय से लौटते समय 23 मई को राजनगर एक्सटेंशन में एक बस स्टैंड के पास से अपहरण हो गया था. वह हरिद्वार जाने वाली बस की प्रतीक्षा कर रहे थे.

एसटीएफ के एक अधिकारी ने कहा कि अपहरणकर्ताओं ने 15 लाख रुपये की फिरौती मांगी और उन्हें आठ दिनों तक कैद में रखा.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्णा के मुताबिक, राजनगर एक्सटेंशन के ब्रेव हाइट्स अपार्टमेंट के पास राजीव कुमार को मुक्त कराने के अभियान के दौरान गोली लगने से दो पुलिस कांस्टेबल और दो अपहरणकर्ता घायल हुए हैं.

राजीव इंदिरापुरम पुलिस थानांतर्गत आने वाले प्रह्लाद गढ़ी गांव के एक घर से बचाए गए.

कृष्णा ने कहा, “जब पुलिस ने अपहरणकर्ताओं को घेर लिया, तो उन लोगों ने फायरिंग करनी शुरू कर दी. दो घायल अपहरणकर्ताओं सहित तीन अपहरणकर्ता गिरफ्तार कर लिए गए.”

गिरफ्तार अपहरणकर्ताओं की पहचान महेश मिश्रा, शरद शर्मा और रिंकू के रूप में हुई है. एक अधिकारी ने कहा कि पुलिस द्वारा पकड़े गए अपहरणकर्ता गिरोह में युवा अपराधी शामिल हैं, जो उच्च मध्यमवर्गीय दर्जे के पेशेवरों का उनकी गतिविधियों के बारे में अच्छी तरह से पता लगाने के बाद अपहरण कर लेते थे.

एडीजी (कानून एवं व्यवस्था) आनंद कुमार ने मीडिया को बताया कि संपर्क में बने रहने के लिए अपहरणकर्ता व्हाट्सएप का इस्तेमाल कर रहे थे.