गुरुवार को करें इस मंत्र का जाप, घर-परिवार में बनी रहेगी सुख-समृद्धि

शास्त्रों में गुरुवार का दिन भगवान बृहस्पतिदेव को समर्पित माना गया है. ऐसा माना जता है कि बृहस्पतिवार का दिन धन-संपत्ति के लिए अत्यंत शुभफलदायक साबित होता है.

इस दिन बृहस्पति देव की पूजा शुभफलदायी होता है. गुरुवार की कथानुसार भगवान बृहस्पति को सरल उपायों द्वारा प्रसन्न करके आसानी से उनकी कृपा पाई जा सकती है.

इसके अलावा एक ऐसा मंत्र भी है जिसको मात्र ध्यानपूर्वक पढ़ने से मनुष्य के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. भगवान बृहस्पति के चित्र अथवा मूर्ति के सामने रखें और आसन पर बैठकर का स्मरण कर देवगुरु की आरती करें.
बृहस्पति देव की पूजा करते समय शुद्ध देशी घी का दीपक जलाएं. मंत्र स्मरण और पूजन के बाद गुरु ग्रह से संबंधित पीली सामग्रियों जैसे पीली दाल, वस्त्र, गुड़, सोना आदि का यथाशक्ति दान करें.

इस मंत्र का करें उच्चारण
जीवश्चाङ्गिर-गोत्रतोत्तरमुखो दीर्घोत्तरा संस्थित:
पीतोश्वत्थ-समिद्ध-सिन्धुजनिश्चापो थ मीनाधिप:.
सूर्येन्दु-क्षितिज-प्रियो बुध-सितौ शत्रूसमाश्चापरे
सप्ताङ्कद्विभव: शुभ: सुरुगुरु: कुर्यात् सदा मङ्गलम्..
शास्त्रों के अनुसार पीले रंग के फूल लेकर इस मंत्र का जाप करना अत्यधिक लाभकारी साबित होता है. इतना ही नहीं बृहस्पति देव की मूर्ति के सामने इस मंत्र का जाप करने से परिवार की सभी समस्या दूर हो जाती है.

इस मंत्र के जाप से आप भगवान बृहस्पति की कृपा पा सकते हैं –
– ॐ नमोः नारायणाय.
– ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय नम:
– ॐ नमो नारायण. श्री मन नारायण नारायण हरि हरि
– ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर.
भूरि घेदिन्द्र दित्ससि.
ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्.
– आ नो भजस्व राधसि.