जानिए कब से कब तक है अधिमास

पंचांग के अनुसार इस बार दो ज्येष्ठ मास पड़ रहा है. इसलिए इस मास को अधिमास के नाम से जाना जा रहा है. इस महीने अधिमास ज्येष्ठ शुक्ल प्रतिपदा यानि 16 मई से शुरू हो रहा है.

शास्त्रों के अनुसार हर कार्य ग्रहों की चाल और उनकी स्थिति को देखकर किया जाता है. क्योंकि ग्रहों की स्थिति का व्यक्ति के जीवन और उसके जीवन में घटने वाली प्रत्येक घटना का असर होता है.

जिसके कारण कई बार व्यक्ति को लाभ तो कई बार हानि का सामना करना पड़ता है. ये लाभ या हानि इस बात पर निर्भर करती है की कौन से काम शुभ समय में किये गए है और कौन से काम अशुभ समय में शुभ समय के बारे में तो सभी जानते है लेकिन अशुभ समय के बारे में सभी को पता नहीं होता.

परंतु इस अशुभ समय का सभी के जीवन पर समान प्रभाव पड़ता है. ऐसा ही समय फिर प्रारंभ होने वाला है जब ग्रहों की चाल बदलने वाली है. और वो समय है मलमास या अधिकमास.

कब से कब तक है अधिमास
इस बार ज्येष्ठ मलमास या ज्येष्ठ अधिकमास 16 मई 2018 से 13 जून 2018 तक ज्येष्ठ माह में रहेगा. इसे पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है. कई लोगों को यह भ्रम होता है की अधिकमास पूर्णिमा तक रहेगा पर ऐसा नहीं है. पूर्णिमा 28 जून को है पर मलमास 16 जून खत्म हो जाएगा.

क्या होता है अधिमास (मलमास)
ज्योतिष के अनुसार चंद्रगणना विधि से ही काल गणना पद्धति की जाती है. चंद्रमा की 16 कलाओं को आधार मानकर दो पक्ष कृष्ण और शुक्ल का एक माह माना जाता है.

कृष्ण पक्ष के पहले दिन से पूर्णिमा की अवधि तक साढ़े 29 दिन होते है. इस तरह एक साल में 354 दिन होते है. और पृथ्वी सूर्य की एक परिक्रमा 365 दिन 6 घंटे में करती है.

जिसके कारण चंद्र गणना के हिसाब से 11 दिन 3 घड़ी और 48 पल का अंतर हर साल पड़ जाता है. फिर यही अंतर 3 साल में बढ़ते बढ़ते लगभग एक साल का हो जाता है. इसे ही दूर करने के लिए तीन वर्ष में एक बार अधिकमास की परंपरा रखी गयी है. अधिकमास के दोनों ही पक्षों में संक्रांति नहीं होती.

 

साभार -हरिभूमि