आईपीएल-11 : एक दूसरे को रोकने उतरेंगी मुंबई-राजस्थान

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण के प्लेऑफ में जगह बनाने में लगीं मुंबइ इंडियंस और राजस्थान रॉयल्स रविवार को दूसरे मैच में वानखेड़े स्टेडियम में एक दूसरे को मात देकर अपनी राह आसान करने की कोशिश में होंगी. दोनों टीमें प्लेऑफ की दौड़ में बनी हुई हैं और इस मैच में हार उन्हें अंतिम-4 की दौड़ से बाहर कर सकती है.

मुंबई की स्थिति राजस्थान से बेहतर है. वह अंकतालिका में चौथे स्थान पर है. मुंबई ने पिछले पांच मैचों में जीत हासिल करते हुए शीर्ष-4 में जगह बनाई है. वह 11 मैचों में पांच जीत और छह हार के साथ 10 अंक लिए हुए है. राजस्थान के भी यही आंकड़े हैं, लेकिन नेट रन रेट के मामले वो मुंबई और कोलकाता नाइट राइडर्स से पिछड़ी हुई है और छठे स्थान पर मौजूद है.

मुंबई ने लगातार हार के बाद जो वापसी की है वो काबिले तारीफ है और इसलिए राजस्थान के खिलाफ उसका पलड़ा भारी लग रहा है. राजस्थान भी हालांकि इस मैच में जीत हासिल करते हुए आ रही है. उसने अपने पिछले मैच में शुक्रवार को रोचक मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स को मात दी थी.

इस मैच में राजस्थान के लिए जोस बटलर ने नाबाद 95 रनों की पारी खेली थी और टीम की जीत के सूत्रधार बने थे. बटलर पर मुंबई के खिलाफ भी बड़ी जिम्मेदारी होगी. राजस्थान की बल्लेबाजी में जो एक शख्स लगातार रन उगल रहा है वो हैं युवा बल्लेबाज संजू सैमसन. पिछले मैच में बेशक सैमसन ने बड़ी पारी न खेली हो लेकिन अहम समय पर बटलर के साथ खड़े होकर टीम को जीत के रास्ते पर बनाए रखा था.

कप्तान अंजिक्य रहाणे बल्ले से कुछ कमाल नहीं दिखा पाए हैं. अब जबकि टीम के लिए हर मैच अहम है ऐसे में उन्हें बल्ले की जंग दूर करनी होगी. बेन स्टोक्स का खामोश रहना राजस्थान को अखरा है. पिछले मैच में उनके बल्लेबाजी क्रम में बदलाव किया था और बटलर के साथ पारी की शुरुआत करने आए थे, लेकिन वो यहां भी विफल रहे थे.

कृष्णाप्पा गौतम का बल्ला रन तो कर रहा है लेकिन निरंतरता की कमी उनके प्रदर्शन को कमजोर करती रही है. गेंदबाजी में हालांकि उन्होंने अपनी फिरकी से प्रभावित किया है.

उनके अलावा वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर लगातार टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. उन्होंने हालांकि दूसरे छोर से साथ नहीं मिला है. बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाएं हैं तो वहीं स्टोक्स गेंद से भी अपना प्रभाव छोड़न में सफल नहीं रहे हैं.

वहीं मुंबई की बात की जाए तो कप्तान रोहित शर्मा सही समय पर टीम को एकजुट करने और संतुलित प्रदर्शन करवाने में सफल रहे हैं. उन्होंने खुद बल्ले से अपनी भूमिका निभाई है. उनके अलावा सूर्यकुमार यादव इस सीजन में रनों की बारिश कर रहे हैं. सूर्यकुमार और इविन लुइस की सलामी जोड़ी टीम को मजबूत शुरुआत देने में अधिकतर समय सफल रही है.

कमी मध्यक्रम में थी जहां रोहित ने मोर्चा संभालते हुए टीम को विजयी रास्ते पर वापस बुलाया. उनसे प्रभावित होकर बाकि खिलाड़ियों का बल्ला भी अच्छा बोल रहा है. युवा बल्लेबाज ईशान किशन ने पंजाब के खिलाफ महज 17 गेंदों में अर्धशतक जड़ा था तो वहीं हार्दिक और उनके बड़े भाई क्रूणाल पांड्या के बल्लों ने भी रन बनाने शुरू कर दिए हैं.

गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह और मिशेल मैक्लेघन ने टीम का भार अच्छे से अपने कंधों पर उठा रखा है. पांड्या बंधुओं ने भी यहां भी कप्तान को खुश ही किया है.

टीमें (संभावित) :

मुंबई इंडियंस : रोहित शर्मा (कप्तान), सूर्यकुमार यादव, इविन लुइस, ईशान किशन, हार्दिक पांड्या, क्रूणाल पांड्या, केरन पोलार्ड, मयंक मारकंडे, मिशेल मैक्लेघन, मुस्ताफिजुर रहमान, जसप्रीत बुमराह, अकिला धनंजय, बेन कटिंग, जेपी ड्यूमिनी, राहुल चहर, शरद लांबा, एडम मिलने, सिद्धेश लाड, मोहम्मद निधीश, मोहसीन खान, अनुकूल रॉय, प्रदीप सांगवान, तजिंदर सिंह, आदित्य तारे और सौरभ तिवारी.

राजस्थान रॉयल्स : अजिंक्य रहाणे (कप्तान), अंकित शर्मा, संजू सैमसन, बेन स्टोक्स, धवल कुलकर्णी, जोफ्रा आर्चर, डार्सी शॉर्ट, दुष्मंता चमीरा, स्टुअर्ट बिन्नी, श्रेयस गोपाल, एस. मिथुन, जयदेव उनादकट, बेन लॉफलिन, प्रशांत चोपड़ा, के. गौतम, महिपाल लोमरूर, जतिन सक्सेना, अनुरीत सिंह, आर्यमान बिरला, जोस बटलर, हेनरिक क्लासेन, जहीर खान और राहुल त्रिपाठी.