‘कार्ति पर आईटी विभाग के आरोप आधारहीन’

आयकर विभाग द्वारा पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम के परिवार के सदस्यों के खिलाफ लगाए गए आरोप आधारहीन हैं. उनके चाटर्ड अकाउंटेंट ने शनिवार को यह बात कही है.

आर. बालाचंद्रन ने एक बयान में कहा कि वह कार्ति पी. चिदंबरम, श्रीनिधि कार्ति चिदंबरम और चेस ग्लोबल एडवाइजरी सर्विसिस प्रा. लि. के चाटर्ड अकाउंटेंट रहे हैं. उन्होंने कहा कि चिदंबरम के परिवारजनों द्वारा दाखिल आयकर रिटर्न ही ‘आधारहीन आरोपों’ का पुख्ता जवाब है.

कार्ति चिंदबरम ने इस बयान को रीट्वीट किया है. बालाचंद्रन ने कहा, “चाटर्ड अकाउंटेंट की सलाह पर आयकर रिटर्न तैयार किए जाते हैं. जिन निवेशों पर सवाल उठाए जा रहे हैं, वे बैंक प्रेषण के माध्यम से निवेश किए गए हैं. उनका विधिवत खुलासा प्रासंगिक निर्धारण वर्ष के लिए आयकर अधिनियम की धारा 139 के तहत दायर आयकर रिटर्न में किया गया है.”

उन्होंने कहा, “यह आरोप पूरी तरह से गलत है कि निवेश का सही तरीके से खुलासा नहीं किया गया. आयकर रिटर्न इन आधारहीन आरोपों का ठोस जवाब है. आयकर विभाग द्वारा मेरे ग्राहक पर लगाए गए आरोपों का कानून के मुताबिक जवाब दिया जाएगा.”

आयकर विभाग ने शुक्रवार को अदालत में नलिनी चिदंबरम (पूर्व वित्तमंत्री की पत्नी), कार्ति चिदंबरम, श्रीनिधि कार्ति चिदंबरम और चेस ग्लोबल एडवाइजरी सर्विसिस कंपनी के खिलाफ अमेरिका और ब्रिटेन में अचल संपत्तियों का कर अधिकारियों के समक्ष खुलासा नहीं करने को लेकर चार आपराधिक शिकायतें दर्ज कराई है.