उत्तराखंड : आजीविका की तलाश में पिछले 10 वर्षों में 700 से ज्यादा गांव खाली

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 वर्षों में उत्तराखंड में 700 से ज्यादा गांव खाली हो गये और 3.83 लाख से अधिक लोगों ने गांव छोड़ दिया. इनमें 50 प्रतिशत लोगों ने आजीविका की तलाश में पलायन किया.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की उपस्थिति में मीडिया के साथ इन आंकड़ों को साझा करते हुए उत्तराखंड ग्रामीण विकास एवं पलायन आयोग के अध्यक्ष एस एस नेगी ने कहा कि पलायन करने वालों में 70 प्रतिशत लोग राज्य के बाहर नहीं. वे राज्य के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में चले गये.

यह डाटा पिछले दस वर्षों में राज्य में पलायन की स्थिति पर आयोग की रिपोर्ट का हिस्सा है, जिसे मुख्यमंत्री ने यहां अपने आधिकारिक निवास पर जारी किया.