ट्विटर ने 33 करोड़ यूजर्स से पासवर्ड बदलने की अपील की, जानें कारण

ट्विटर विश्व की सबसे बड़ी माइक्रो ब्लॉगिंग साइट है, जिसमें इंटरनल लॉग में एक बग पाया है. इस वजह से ट्विटर ने अपने 330 मिलियन यानी 33 करोड़ यूजर्स की निजी जानकारी की सुरक्षा के लिए उनसे पासवर्ड बदलने की अपील की है.

गुरुवार को ट्विटर ने ट्वीट करते हुए कहा है कि हमारी साइट में एक बग पाया गया है, जिसे सही तरह से ठीक कर दिया है. ट्विटर में बग पाने की खबर को लेकर ट्विटर ने बयान जारी कर कहा है कि इस बग की वजह से किसी भी यूजर्स के डेटा को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है और ना ही कोई भी डेटा लीक हुआ है.

बयान में आगे कहा है कि इस बग के कारण ट्विटर के इंटरनल लॉग में पासवर्ड का खुलासा हो गया था, जिसे अब ठीक कर दिया है, साथ ही किसी भी यूजर्स का डेटा लीक नहीं हुआ है. ट्विटर ने अपनी साइट पर इस बग को ठीक तो कर दिया है, मगर फिर भी यूजर्स के डेटा की सुरक्षा को मद्देयनजर रखते हुए ट्विटर ने अपने यूजर्स से पासवर्ड बदलने का अपील की है.

वहीं दूसरी तरफ कंपनी ने कहा है कि इस तरह की गलती दोबारा ना हो, इसके लिए हमने प्लान तैयार किया है. बता दें कि डेटा लीक मामले को लेकर कैंब्रिज एनलिटिका के साथ ट्विटर का नाम भी जुड़ा है, मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन की सलाहकार कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने करीब 8.7 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स के डेटा बिना उनकी जानकारी के इस्तेमाल किए थे.

संडे टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक कैंब्रिज एनालिटिका ने टूल्स बनाने वाली कंपनी एलेक्सेंडर कोगन से डेटा खरीदे थे. इस इकाई को ट्विटर के आंकड़े प्राप्त हो जाते थे. वहीं कोगन ने कहा था कि इस जानकारी का इस्तेमाल केवल ब्रैंड रिपोर्ट तैयार करने के लिए किया है.

ट्विटर की नितियों का उल्लघंन नहीं किया गया है. इस डेटा लीक मामले को लेकर फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने अपनी गलती मानी थी. एक निजी रिपोर्ट के अनुसार ट्विटर की जानकारी काफी सर्वजनिक है, क्योंकि इसकी ज्यादातर जानकारी ट्विट हो जाती है. ट्विटर कंपनियों से सामूहिक रूप से शुल्क वसूलती है. देखा जाए तो ट्विटर के पास फेसबुक की तुलना में काफी कम निजी सूचनाएं है.