बारिश और आंधी ने गढ़वाल में मचाया कहर, चमोली में बादल फटने से दहशत में लोग

उत्तराखंड में मौसम की भविष्यवाणी एक बार फिर सटीक साबित हुर्इ है. राज्य के अलग-अलग हिस्सों में आंधी और बारिश ने अपना कहर बरपाया है. चमोली जिले के नारायणबगड़ में बादल फटने से कर्इ दुकानें और मकान क्षतिग्रस्त हो गए. हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की कोर्इ खबर नहीं है. कुमाऊं में भी अंधड़ और बारिश ने कहर बरपाया है.

चमोली जिले के नारायणबगड़ में भारी बारिश के बाद अचानक बादल फट गया. जिससे केवल तल्ला गदेरे (बरसाती नाला) से पानी के साथ भारी मात्रा में मलबा भी बहकर आ गया. इससे कर्णप्रयाग-ग्वालदम हाइवे आधा घंटा बंद रहा. वहीं जीतसिंह मार्केट में हाइवे पर खड़े ट्रक, बोलेरो सहित पांच वाहन भी मलबे में दब गए. इतना ही नहीं, बादल फटने के बाद कर्इ दुकानों, अस्पताल और घरों में मलबा घुस गया साथ ही मकान क्षतिग्रस्त हो गए. घटना के बाद स्थानीय लोगों में डर व्याप्त है और वह अपने घरों में जाने से भी डर रहे हैं. वहीं बादल फटने की सूचना पर स्थानीय प्रशासन और पुलिस मौके पर पहुंची और हाइवे पर यातायात सुचारू किया.

बता दें कि इस क्षेत्र में 15 से अधिक भवनों पर खतरा मंडरा रहा है. बारिश के दौरान लोग घरों में रहने से डर रहे हैं. लोगों का कहना है कि अगर पानी निकासी नहीं की गर्इ तो यहां रहना खतरे से खाली नहीं है. पुलिस चौकी प्रभारी हेमंत सेमवाल ने बताया कि नाले का जलस्तर अब कम हो गया है और हाइवे पर यातायात भी सुचारू कर दिया गया है.

जिलाधिकारी आशीष जोशी ने कहा कि मौके पर रेस्क्यू टीम मौजूद है. उन्होंने बताया कि बारिश के दौरान नाला उफान पर आने से दुकानों में पानी मलबा घुसा था, अब स्थिति सामान्य है. उन्होंने ये भी बताया कि थराली के कूनी पार्था में ओलावृष्टि से एक खच्चर की मौत हुई है.

बारिश के चलते बद्रीनाथ हाइवे मैठाणा में दो जगह करीब एक घंटे तक बंद रहा. हाइवे बंद होने से यात्री वाहनों की लंबी कतार लगी. जिला अधिकारी के मौके पर पहुंचने के बाद एनएच विभाग ने जेसीबी मशीन लगाकर हाइवे पर यातायात सुचारू किया.

वहीं अचानक आई आंधी के चलते केंद्रीय कपड़ा राज्यमंत्री अजय टम्टा की गाड़ी के आगे पेड़ गिर गया. दरअसल, टम्टा कलक्ट्रेट सभागार में नीति आयोग की बैठक से जौलीग्रांट एयरपोर्ट लौटने के लिए भेल सेक्टर चार पीठ बाजार तक पहुंचे ही थे कि अचानक एक पेड़ गिर पड़ा. हालांकि चालक ने तत्परता दिखाते हुए गाड़ी मोड़ ली. इससे गाड़ी सड़क किनारे गड्ढे में जा पहुंची. इस दौरान कोर्इ हताहत नहीं हुआ.