चारों धामों में 15 जून तक धार्मिक कथाओं पर रोक, यात्रियों को नहीं होगी असुविधा

चार धाम यात्रा के पीक सीजन को देखते हुए धार्मिक कथाओं के आयोजन पर रोक लगा दी गई है. इसके लिए सभी जिलाधिकारियों को अनुमति न देने के निर्देश दिए गए हैं. साथ ही पर्यटन सचिव और गढ़वाल कमिश्नर को पूरी व्यवस्था पर नजर रखने को कहा गया है.

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि 15 जून तक यात्रा का पीक सीजन होता है. इस दौरान बड़ी संख्या में तीर्थयात्री दर्शन को आते हैं. ऐसे में यदि यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में कथाओं का आयोजन होगा तो देशभर से आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी हो सकती है और व्यवस्थाएं पटरी से उतर सकती हैं.

उन्होंने कहा कि कथा आयोजन की भीड़ से पार्किंग से लेकर होटल बुकिंग आदि भी प्रभावित होती है. यात्रियों को परेशानी न हो, इसके लिए जरूरी है कि पीक सीजन तक चारों धाम में धार्मिक कथाएं न कराई जाएं.

मंत्री ने पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर को निर्देश दिए कि बतौर सचिव और गढ़वाल कमिश्नर पूरी व्यवस्था पर नजर रखें. उन्होंने सभी जिलों के जिलाधिकारियों को भी इसका पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि समय पर कथा आयोजकों को भी इसकी सूचना दे दी जाए, ताकि कथा आयोजकों को भी असुविधा न हो. केवल ऑफ सीजन में ही ऐसे आयोजनों को अनुमति दी जाए.