यह शहर पहाड़ी पर बसा है, ट्रैकिंग के लिए दूर-दूर से आते हैं टूरिस्ट

ट्रैकिंग का शौक तो हर किसी को होता है. ट्रैकिंग सुनने में जितना अच्छा लगता है उतना ही खतरनाक भी होता है. ट्रैकिंग का शौक रखने वाले लोग अपनी जान हथेली पर लेकर घूमते हैं.

आपने बहुत से पहाड़ों की चोटी पर पहुंचने के लिए ट्रैकिंग की होगी लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां आप ट्रैकिंग करके ही पहुंच सकते हैं.

इस शहर तक जाने के लिए आपको किसी तरह की ट्रांसपोर्ट या कोई साधन नहीं मिलता, बल्कि यहां पर लोग ट्रैकिंग के जरीए ही जाते है. अगर आप भी ट्रैकिंग का शौक रखते है तो यह प्राचीन शहर आपके लिए बिल्कुल परफेक्ट है.

पेरू के कुज्को इलाके में बसा प्राचीन शहर माचू पिच्चू 2,430 मीटर की ऊंची पहाड़ियों पर स्थित है. 1983 में इस प्राचीन और खूबसूरत शहर को यूनेस्को की विश्व विरासत घोषित किया है. इस शहर तक जाने के लिए आपको 2 दिन तक ट्रैकिंग करनी पड़ती है, जोकि बेहद रोमांचित होती है.

यहां तक जाने के लिए एक नहीं बल्कि कई ट्रैकिंग रूट्स है. माचू पिच्चू के ट्रैकिंग रूट्स से एक बार में 500 लोगों को ही जाने की अनुमति है, जिसमें से 300 तो समान ले जाने वाले और गाइड होते है. इस शहर तक जाने के लिए गाइड एक दिन पहले सारी प्लानिंग बताते है और हर किसी को उसी हिसाब से चलना पड़ता है.

ट्रैकिंग के अलावा रास्ते में बेस कैंप का भी पूरा इंतजाम किया गया है.माचू पिच्चू को पैरू टूरिज्म कैपिटल और देश की सांस्कृतिक राजधानी घोषित किया गया है. टूरिस्ट प्लेस और ट्रैकिंग के लिए मशहूर होने के बाद यहां पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है. इस स्वर्ग जैसे शहर में ट्रैकिंग के अलावा बहुत से ऐतिहासिक स्थलों की भरमार है, जहां पर्यटक जाना कभी नहीं भूलते.

12 सेक्टर्स में बटें इस शहर में आप कई खंडहर, वास्तुकला और मनोरम दृश्य देख सकते हैं. माचू पिच्चू की खूबसूरती देखने के लिए आप यहां अप्रैल से अक्टूबर के बीच जा सकते हैं. इन महीनों के बीच यहां का मौसम सुहाना रहता है और आसमान भी साफ होता है. जून से अगस्त के बीच तो यहां पर्यटकों का मेला लगा रहता है. अगर आप भीड़-भाड़ से बचना चाहते है तो इस पीक सीजन में माचू पिच्चू पर ट्रैकिंग के लिए न जाएं.