आत्मघाती बम धमाकों से दहला अफ्रीकी देश नाइजीरिया, 60 से ज्यादा की मौत

नाइजीरिया के उत्तर-पूर्वी हिस्से में मंगलवार को एक मस्जिद और एक बाजार में हुए आत्मघाती बम धमाकों में 60 से ज्यादा लोगों के मारे जाने की खबर है. इन दो आत्मघाती हमलों में बोको हराम का हाथ होने का संदेह है. यह हमला ऐसे समय हुआ है जब सोमवार को ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस्लामी आतंकवादियों के खिलाफ संघर्ष में अधिक सहयोग का वादा किया था.

ये धमाके एडमावा प्रांत की राजधानी योला से करीब 200 किलोमीटर दूर मुबी में दोपहर एक बजे के बाद हुए. बताया जाता है कि इन हमलों को अंजाम देने में युवकों की बड़ी भूमिका हो सकती है. नेशनल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी के इमाम गार्की ने बताया कि पुलिस और रेडक्रॉस के संयुक्त आकलन में पाया गया कि 26 लोग मारे गए हैं और 56 घायल हुए हैं. घायलों में से 11 की हालत नाजुक है.

मगर मुबी जनरल अस्पताल के एक मेडिकल सूत्र ने बताया कि अस्पताल में 37 शव लाए गए हैं, जबकि राहत अभियान में लगे एक बचावकर्मी का कहना है कि उसने 42 शव और 68 घायलों को गिना है. एक स्थानीय निवासी मुहम्मद हामिदू ने कहा, ‘कब्रिस्तान छोड़ने से पहले मैंने 68 लोगों के अंतिम संस्कार में हिस्सा लिया. वहां और शव परिवारों द्वारा लाए जा रहे हैं.’

बता दें कि इससे पहले 24 अप्रैल को नाइजीरिया के सुदूर पूर्वोत्तर क्षेत्र में बोको हराम के संदिग्ध आतंकवादियों ने अलग-अलग हमले में 21 लोगों की हत्या कर दी थी. स्थानीय आतंकवाद विरोधी मिलिशया के एक सदस्य ने बताया कि आंतकवादियों ने बोर्नों राज्य में जलावन के लिए लकड़ी जुटा रहे 18 वनर्किमयों की गोली मार कर हत्या कर दी थी. यह स्थान कैमरून की सीमा से लगा हुआ है.