कठुआ दुष्कर्म मामला भयावह, दोषियों को सजा मिले : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र|…. संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या को ‘भयावह’ बताते हुए दोषियों को कानून के दायरे में लाए जाने की उम्मीद जाहिर की.

गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने घुमंतू बकरवाल समुदाय की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म की खबरें देखी हैं.

उन्होंने कहा, “हम आशा है कि प्रशासन इस जघन्य अपराध के लिए जिम्मेदार दोषियों को कानून के दायरे में लाएगा.”

गौरतलब है कि कठुआ की आठ साल की बच्ची का 10 जनवरी को अपहरण कर लिया गया था. बच्ची को एक मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया. इस दौरान उसे भूखा रखा गया और नशीली दवाइयां दी गई और बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया. इसके बाद बच्ची की हत्या कर दी गई. बच्ची का शव 17 जनवरी को रसाना गांव के जंगल से मिला था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इस घटना की निंदा करते हुए कहा था कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. इस मामले में हेड कांस्टेबल, एक सब-इंस्पेक्टर, दो विशेष पुलिस अधिकारी सहित आठ लोग गिरफ्तार किए गए और उनमें से सात के खिलाफ आरोप दायर किया गया है.

कठुआ मामले के विरोध में हुई रैली में शामिल होने के बाद शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के दो मंत्रियों चौधरी लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा ने पद से इस्तीफा दे दिया.