आईपीएल-11 : बेंगलोर ने खोला जीत का खाता, पंजाब को चार विकेट से हराया

डिविलियर्स (57) और क्विंटन डी कॉक (45) की बेहतरीन पारियों के दम पर रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने शुक्रवार को एम.ए चिदम्बरम स्टेडियम में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में अपना जीत का खाता खोला है. बेंगलोर ने रोचक मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब को चार विकेट से मात दी.

पंजाब ने पहले बल्लेबाजी करते हुए मेजबान बेंगलोर के सामने 156 रनों का लक्ष्य रखा था, जिसे बेंगलोर ने तीन गेंद बाकी रहते हुए छह विकेट खोकर हासिल कर लिया.

डिविलियर्स ने अहम समय पर 40 गेंदों में दो चौके और चार छक्कों की मदद से अर्धशतकीय पारी खेली. इसमें मनदीप सिंह ने उनका बखूबी साथ दिया. मनदीप ने एक छोर संभाले रखते हुए 19 गेंदों में एक चौके की मदद से 22 रन बनाए.

अक्षर पटेल ने बेंगलोर को अच्छी शुरुआत से वंचित रखा. उन्होंने पहले ही ओवर की दूसरी गेंद पर खतरनाक ब्रेंडन मैक्कलम को मुजीब उर रहमान के हाथों कैच कराया. एक रन के कुल स्कोर पर आउट होने वाले मैक्कलम खाता भी नहीं खोल पाए.

विराट कोहली ने 16 गेंदों में चार चौकों की मदद से 21 रन बनाए, लेकिन 33 के कुल स्कोर पर वह रहमान की बेहतरीन गेंद पर बोल्ड हो गए. दूसरे छोर पर डी कॉक लगातार स्कोर बोर्ड चला रहे थे. डी कॉक अर्धशतक से पांच रन दूर थे तभी पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने उन्हें बोल्ड कर दिया. उन्होंने अपनी पारी में 34 गेंदों का सामना किया और सात चौकों के अलावा एक छक्का भी लगाया.

युवा बल्लेबाज सरफराज ने एक बार फिर निराश किया. वह अश्विन की गेंद पर स्लिप पर करुण नायर के हाथों लपके गए. दूसरे छोर पर खड़े डिविलियर्स पंजाब की मुसीबत बने हुए थे.

मुकाबला रोचक होता जा रहा था और इसी बीच डिविलियर्स ने मुजीब द्वारा फेंके गए 17वें ओवर में दो शानदार छक्के जड़े. इस ओवर में मनदीप ने एक चौका मारा. मुजीब ने इस ओवर में कुल 19 रन लुटाए. डिविलियर्स हालांकि 19वें ओवर की पहली गेंद पर पवेलियन लौट लिए. इसी ओवर में मनदीप भी रन आउट हो गए.

वॉशिंगटन सुंदर ने (नाबाद 9) ने आखिरी ओवर में दो चौके मारे अपनी टीम को जीत दिलाई. इसस पहले बेंगलोर के कप्तान कोहली ने टॉस जीतकर पंजाब को बल्लेबाजी का न्योता दिया. पंजाब को अच्छी शुरुआत मिली, लेकिन वो इसका फायदा नहीं उठा सकी और 19.2 ओवरों में सिर्फ 155 रनों पर ही ऑल आउट हो गई.

पंजाब को इस स्कोर तक रोकने में तीन विकेट लेने वाले मेजबान टीम के तेज गेंदबाज उमेश यादव का अहम योगदान रहा. उन्होंने चार रनों के भीतर मेहमान टीम के तीन बल्लेबाजों को पवेलियन भेजकर उसे बैकफुट पर धकेल किया जिससे वो कभी वापस नहीं आ पाई.

बेंगलोर के लिए उमेश के अलावा क्रिस वोक्स, कुलवंत खेजोरोलिया, सुंदर को दो-दो विकेट मिले. युजवेंद्र चहल को एक सफलता मिली.

मयंक अग्रवाल (15) और लोकेश राहुल ने पहले विकेट के लिए 3.1 ओवरों में ही 32 रन जोड़ लिए थे. चार रनों के भीतर तीन विकेट गिर जाने से पंजाब की पारी लड़खड़ा गई.

पहला विकेट मयंक के रूप में गिरा जिन्हें उमेश यादव ने विकेट के पीछे डी कॉक के हाथों कैच कराया. अगली गेंद पर एरॉन फिंच उमेश की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए. युवराज सिंह ने चार गेंदों में सिर्फ एक चौका मारा और उमेश की गेंद पर बोल्ड हो गए.

दूसरे छोरे पर राहुल टिके थे. उन्हें करूण नायर का साथ मिला. दोनों ने टीम का स्कोर 94 पहुंचा दिया. राहुल तेजी से रन बना रहे थे, नायर उन्हें स्ट्राइक दे रहे थे. इन दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए हुई 58 रनों की साझेदारी का अंत सुंदर ने राहुल को बोल्ड कर किया. राहुल ने 30 गेंदों में दो चौके और चार छक्कों की मदद से 47 रन बनाए.

छह रन बाद नायर को खेजोरोलिया ने अपना शिकार बनाया. मार्कस स्टोइनस (11) को वॉशिंगटन सुंदर ने टिकने नहीं दिया और 110 के कुल स्कोर पर पवेलियन भेजा. खेजोरोलिया ने अक्षर पटेल (2) को 122 के कुल स्कोर पर अपना दूसरा शिकार बनाया.

अश्विन ने अंत में 21 गेंदों में 33 रनों की पारी खेल पंजाब को 150 के पार पहुंचाया. वह 153 के कुल स्कोर पर चहल की गेंद पर आउट हुए. मुजीब उर रहमान के रूप में पंजाब ने अपना आखिरी विकेट खोया. रहमान खाता भी नहीं खोल सके.