फैसला दूंगा तो 24 घंटे में फिर पलट जाएगा : जस्टिस चेलमेश्वर

सुप्रीम कोर्ट में केसों के बंटवारे और बेंच तय करने को लेकर दायर की गई दूसरी याचिका पर जस्टिस जे चेलमेश्वर ने सुनवाई से इनकार कर दिया है. जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि मैं नहीं चाहता कि मेरा आदेश 24 घंटे में पलट दिया जाए. इसे वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने दायर किया था.

बता दें कि बुधवार को चीफ जस्टिस की अगुआई वाली तीन जजों की बेंच ने भी ऐसी ही एक याचिका खारिज की थी. बेंच ने कहा था कि चीफ जस्टिस संवैधानिक रूप से सर्वोपरि हैं उनके फैसले पर अविश्वास नहीं किया जा सकता.

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जे चेलमेश्वर ने कहा कि मैं शांति भूषण की याचिका पर सुनवाई नहीं करना चाहूंगा, इसके कारण एकदम स्पष्ट हैं. कोई लगातार मेरे खिलाफ अभियान चला रहा है, जैसे मानो मुझे कुछ हासिल करना है.

न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि वह नहीं चाहते कि अगले 24 घंटे में उनके आदेश को फिर से पलटा जाए. यह देश अपना रास्ता खुद तय करेगा, लेकिन मैं इस जनहित याचिका की सुनवाई नहीं कर सकता, इसके लिए मैं खेद व्यक्त करता हूं.

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश ने यह टिप्पणी तब की जब वरिष्‍ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण के यह कहने पर कि उनके पिता शांति भूषण की जनहित याचिका सूचीबद्ध नहीं की गई. न्यायमूर्ति चेलमेश्वर द्वारा इस मामले को सूचीबद्ध करने से इनकार करने के बाद प्रशांत भूषण ने अपनी याचिका का उल्लेख प्रधान न्यायाधीश के समक्ष किया.