भारत की चिंताएं दरकिनार कर CPEC का विस्तार कर रहा है चीन

बीजिंग।… चीन की महत्वाकांक्षी परियोजना चीन-पाक आर्थिक गलियारे (Cpec) का विस्तार अफगानिस्तान तक किया जा रहा है. यह जानकारी रविवार को एक रिपोर्ट में दी गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव ने एशिया के आर्थिक सहयोग में नई ऊर्जा दी है और महाद्वीप को अपने अंतरराष्ट्रीय संबंधों को फिर से आकार देने में सहयोग किया है. यह जानकारी चीन के बोआवो फोरम फॉर एशिया (बीएफए) के वार्षिक सम्मेलन के इतर बीजिंग में जारी वार्षिक रिपोर्ट में दी गई है.

चीन ने परियोजना का विस्तार अफगानिस्तान तक करने की घोषणा दिसंबर में की थी, जिस पर भारत ने चिंता जताई थी. शी चिनफिंग की यह महत्वाकांक्षी परियोजना भारत-चीन संबंधों में बड़ी बाधा बन चुकी है. भारत ने चीन के सामने इसको लेकर सख्त विरोध दर्ज कराया है, जो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से होकर गुजर रही है.

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने पाकिस्तान और अफगानिस्तान के विदेश मंत्रियों के साथ बैठक में सीपीईसी का विस्तार अफगानिस्तान तक करने की पेशकश की थी. वांग ने कहा था कि चीन और पाकिस्तान अफगानिस्तान की तरफ उम्मीद भरी निगाह से देख रहे हैं. इसका आधार आपसी लाभ का सिद्धांत है, जिसमें सभी पक्षों के फायदे हैं.

उल्लेखनीय है कि दावोस में विश्व आर्थिक मंच की तर्ज पर चीन ने 2001 में बीएफए की स्थापना की थी. इस फोरम की बैठक रविवार को हेनान प्रांत के तटीय शहर बोआवो में शुरू हुई है, जो 11 अप्रैल तक चलेगी.