भागलपुर हिंसाः केंदीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत समेत 8 को मिली जमानत

भागलपुर में रामनवमी के दिन हुई हिंसा के आरोपी कैंदीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अरिजीत को जमानत मिल गई है. ज़मानत पर सोमवार को सुनवाई करते हुए चतुर्थ अपर सत्र न्यायाधीश व प्रभारी जिला जज कुमुद रंजन सिंह की अदालत ने अरिजीत समेत आठ भाजपा नेताओं को जमानत दे दी.

आपको बता दें कि हिंसा के आरोप में गिरफ्तार अरीजित चौबे ने 31 मार्च को सरेंडर किया था. अरिजीत के सरेंडर करने के बाद उन्हें अदालत में पेश किया गया, जहां उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.

जानें क्या है पूरा मामला
गौरतलब हों भारतीय नववर्ष जागरण समिति की ओर से विक्रम संवत के पहले दिन नववर्ष को मनाने के लिए एक जुलूस निकाला गया था. जब जुलूस मोदीनगर पहुंचा तो स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया. विरोध इस हद तक बढ़ गया कि इससे दो समुदायों के बीच हिंसा शुरु हो गई.

जुलूस निकालने के लिए अरीजित ने किसी भी प्रकार की अनुमति नही ली थी. इसके बाद स्थानीय लोगों ने अरीजीत और उसके साथियों के खिलाफ भागलपुर थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी.

अश्विनी ने 31 मार्च को पटना में सरेंडर किया था. इसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था. गिरफ्तारी के बाद अरिजीत अदालत में पेश हुए जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.