पाकिस्तानी खाड़ी के समाज के लिए खतरनाक हैं : दुबई पुलिस

पाकिस्तान में आम अवाम की हालत बेहद ख़राब है और लोग भूखे मरने को मजबूर है. पाकिस्तान की विश्व समुदाय में भी कुछ खास अहमियत नहीं रह गयी है, जिसका खामियाजा वहां की अवाम को भुगतना पड़ रहा है. नागरिकों के लिए यह समय बेहद कठिन है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उनके नागरिकों के लिए भी लगातार अनचाही खबरें आ रही हैं. पाकिस्तान के लिए खाड़ी देश के रास्ते बंद होते नजर आ रहे हैं.

दुबई के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने ट्वीट कर भारतीयों की तारीफ की है, जबकि उन्होंने पाकिस्तानियों को जमकर लताड़ा. इस पुलिस अधिकारी ने पाकिस्तानी समुदाय को अशांति फैलाने के अलावा अपराध और स्मगलिंग करने वाला बताया जबकि भारतीयों को बेहद अनुशासित करार दिया. लेफ्टिनेंट जनरल और दुबई में सुरक्षा प्रमुख धाही खलफान ने यह ट्वीट ड्रग स्मगलिंग के मामले में पाकिस्तानियों के गैंग के पकड़े जाने के बाद किया.

दूसरी ओर, पाकिस्तानी मीडिया का कहना है कि खलफान अपने विवादित ट्वीट के लिए जाने जाते हैं. शायद यही कारण है कि उनके पास 2.66 मिलियन से ज्यादा फॉलोअर्स हो गए हैं. खलिफान ने गिरफ्तार पाक नागरिकों की फोटो भी पोस्ट की और फिर कमेंट किया. उनके स्थानीय भाषा में लिखे कमेंट को यूएईवायरल डॉट कॉम ने अनुवाद किया जिसके अनुसार उन्होंने ट्वीट किया, ‘पाकिस्तानी खाड़ी समाज के लिए बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं क्योंकि वे अपने साथ हमारे देश में ड्रग्स लेकर आ रहे हैं. हमें उन्हें अपने यहां प्रवेश नहीं करने देना चाहिए.’

हालांकि उनके ट्वीट की सबसे खास बात यह रही कि उन्होंने एक ओर पाकिस्तानी नागरिकों की जमकर आलोचना की तो भारतीय नागरिकों की तारीफ करते हुए बेहद अनुशासित बताया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘भारतीय अनुशासित होते हैं, जबकि पाकिस्तानी समुदाय अशांति, अपराध और स्मगलिंग को बढ़ावा देता है.’ इस अधिकारी ने यहां तक कहा कि दुबई में किसी को भी पाकिस्तानी नागरिक को अपने यहां नौकरी पर नहीं रखा जाना चाहिए.

दुबई के इस बड़े अधिकारी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘मैं अपने देश के नागरिकों से आह्वान करता हूं कि वे पाकिस्तानी नागरिकों को नौकरी न दें. पाकिस्तानी को नौकरी नहीं देना अब हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य बन गया है.’ उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तानी नागरिक खाड़ी क्षेत्र के लिए खतरनाक होते जा रहे हैं. पाक अब तक के किये अपने कर्मो के कारण इस समय चहुंमुखी दवाब झेल रहा है.