भीम सेना के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा, दलित समाज पर चली एक-एक गोली का हिसाब लेंगे :

मेरठ में हुए उपद्रव में अधिकारियों के द्वारा भीम आर्मी को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. जबकि भीम आर्मी के राष्ट्रीय प्रवक्ता का दावा है कि मेरठ में तो भीम आर्मी की कार्यकारिणी ही नहीं है, मेरठ में भीम आर्मी कैसे हिंसा करा सकती है. उन्होंने भाजपा और आरएसएस पर सोची समझी साजिश के तहत हिंसा फैलाने का आरोप लगाया है.

भीम आर्मी का दावा है कि वह न्यायालय में कानूनी लड़ाई लड़ेंगे और दलित समाज के लोगों पर चली एक-एक गोली का हिसाब प्रदेश सरकार और सरकार के अधिकारियों से लिया जायेगा.

मेरठ में हुए उपद्रव के लिए अधिकारियों के द्वारा भीम आर्मी को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा जा रहा है कि इसके पीछे भीम आर्मी सक्रिय है और सभी कुछ सुनियोजित था. जिसके संबंध मे भीम आर्मी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मंजीत नौटियाल ने कहा कि मेरठ में भीम आर्मी की अभी तक कोई कार्यकारिणी ही नही है, फिर अधिकारी कैसे भीम आर्मी को जिम्मेदार ठहरा सकते हैं, भीम आर्मी हिंसा में विश्वास नहीं रखती. भीम आर्मी का गढ़ सहारनपुर है और यहां पर प्रदर्शन के दौरान किसी प्रकार की कोई हिंसा नहीं हुई और संविधान के दायरे में रहकर ही प्रदर्शन किए गये.

उन्होंने भाजपा और आरएसएस पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके द्वारा सुनियोजित तरीके से देश भर में हिंसा कराकर दलित समाज को बदनाम करने का कार्य किया है. दलित समाज के लोगों के द्वारा संविधान के दायरे में रहकर प्रदर्शन कर अपना विरोध प्रदर्शित किया जा रहा था. जिन पर प्रदेश सरकार ने गोलियां चलवायी है. इन गोलियों का हिसाब भीम आर्मी लेगी, भीम आर्मी के द्वारा इस हिंसा के खिलाफ न्यायालय मे अर्जी डाली जा रही है और कानूनी लड़ाई लड़कर प्रदेश सरकार और अधिकारियों से दलित समाज पर चली एक-एक गोली का हिसाब लिया जाएगा