सचिवालय में सीएम रावत ने वस्त्र निर्यात परिषद्, भारत सरकार के प्रतिनिधियों से भेंट की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सोमवार को सचिवालय में वस्त्र निर्यात परिषद्, भारत सरकार के प्रतिनिधियों से भेंट की. मुख्यमंत्री ने प्रदेश में वस्त्र उद्योग को बढ़ावा देने के साथ ही इस क्षेत्र में अधिक से अधिक रोजगार सृजन पर ध्यान देने पर बल दिया. उन्होंने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में इस तरह के लघु उद्योगों को प्रोत्साहित करने की सरकार की योजना है. पर्वतीय क्षेत्रों में प्रति व्यक्ति आय बढ़ना जरूरी है. इसके लिए पर्वतीय क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसर बढ़ाने होंगे.

ऐसे क्षेत्रों में वस्त्र उद्योग की छोटी-छोटी यूनिट स्थापित की जा सकती है. बैठक में काशीपुर फैशन डिजाइन सेंटर के लिए उत्तराखण्ड सरकार एवं द एपेरल ट्रेनिंग एण्ड डिजाइनिंग सेंटर (एटीडीसी) के बीच एमओयू के लिए सहमति बनी. इस पर शीघ्र एमओयू किया जायेगा. डिजाईन सेन्टर में कौशल विकास विभाग द्वारा टेक्सटाइल उद्योग की आवश्यकतानुसार कौशल विकास के कार्यक्रम चलाये जायेंगे. वस्त्र निर्यात संवर्द्धन परिषद ने गारमेंट्स के क्षेत्र में यूनिट स्थापित करने पर भी चर्चा की. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि टेक्सटाईल यूनिटें की स्थापना के लिए सभी आवश्यकताओं का परीक्षण किया जाए.

इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, प्रमुख सचिव मती मनीषा पंवार, सचिव अमित नेगी, मती सौजन्या, डाॅ. पंकज कुमार पाण्डेय, एईपीसी एवं एटीडीसी के चेयरमेन एच.के.एल मागू, एटीडीसी के जनरल मैनेजर गोपाल कृष्ण भसीन, एईपीसी के एडिशनल सेक्रेटरी जनरल वी. अनिल कुमार, उद्योग निदेशक सुधीर नौटियाल उपस्थित थे.