1 अप्रैल से SBI ग्राहकों के लिए बदल जाएंगे ये 3 नियम, जेब पर पड़ेगा असर

नए वित्त वर्ष यानि 1 अप्रैल से आपके लिए कई चीजें बदल रही हैं. देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एस.बी.आई.) में भी नए बदलाव होंगे. हम आपको बता रहे हैं, तीन ऐसे बदलावों के बारे में, जो एस.बी.आई. ग्राहकों के लिए हो गए हैं या होने वाले हैं.

मिनिमम बैलेंस चार्ज
एस.बी.आई. ने खाते में मिनिमम बैलेंस न रखने पर लगने वाले चार्ज को 75 फीसदी तक घटा दिया है. इस कटौती के बाद आपको पहले के मुकाबले काफी कम चार्ज देना होगा. यह कटौती 1 अप्रैल से लागू हो गई है.
मौजूदा समय में आपको मेट्रो शहरों में 3 हजार रुपए का मिनिमम बैलेंस अपने खाते में बनाए रखना पड़ता है. अर्द्ध शहरी शाखाओं में 2 हजार रुपए की रकम बनाए रखनी पड़ती है. वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों की बात करें तो यहां एक हजार मिनिमम बैलेंस के तौर पर खाते में बनाए रखना होता है.

चेक बुक नहीं चलेगी
एस.बी.आई. ने पिछले दिनों एक बार फिर अपने एसोसिएट बैंकों के ग्राहकों को याद दिलाया है कि उन्हें इन बैंको की चेक बुक 31 मार्च तक बदल लेनी चाहिए. एस.बी.आई. ने कहा है कि 31 मार्च तक एसोसिएट बैंकों के सभी ग्राहकों को चाहिए कि वह नई चेकबुक हासिल कर लें. 1 अप्रैल के बाद आप इन चेकबुक के जरिए कोई भी लेनदेन नहीं कर पाएंगे.

इलेक्टोरल बॉन्ड
देश भर में इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री का अगला दौर 2 अप्रैल से शुरू होगा. 9 दिनों तक चलने वाली बिक्री देश भर में भारतीय स्टेट बैंक की 11 शाखाओं के जरिए होगी. चुनाव आयोग के मुताबिक दिल्ली, गुवाहाटी, भोपाल जैसे 11 शहरों में ये बॉन्ड 10 अप्रैल तक मिलेंगे.

केंद्र सरकार ने चुनावी चंदे और राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारदर्शिता बढ़ाने की गरज से इलेक्टोरल बॉन्ड की व्यवस्था की है. नियम के मुताबिक कोई भी नागरिक खुद या किसी के साथ मिलकर ये बॉन्ड खरीद सकता है.