1अप्रैल से भारतीयों के लिए महंगा हुआ ताज का दीदार

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 52 वर्ष के बाद ताजमहल के दीदार के समय में कटौती की है. रविवार से विश्व की सबसे खूबसूरत इमारत ताजमहल को देखने की वैधता तीन घंटा की गई है. रविवार से तीन घंटा की वैधता वाला टिकट दिया जा रहा है. इसका सॉफ्टवेयर कल ही अपडेट कर दिया गया था.

ताज का दीदार करने को रविवार को भी बड़ी संख्या में लोग उमड़े हैं. रविवार से बच्चों के लिए जीरो वैल्यू टिकट शुरू कर दी गयी है. अब तक 15 वर्ष तक के बच्चों पर टिकट लागू नहीं थी. अब उनके प्रवेश को जीरो वैल्यू टिकट लेना अनिवार्य कर दिया गया है.

ताज में रविवार से सैलानी अधिकतम तीन घंटे ही रुक सकेंगे. 15 वर्ष तक के बच्चों के लिए जीरो वैल्यू टिकट लेनी होगी, जिसके पैसे नहीं देने होंगे. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) ने ताज पर वर्ष 1966 में देसी-विदेशी पर्यटकों के टिकट लागू की थी. टिकट लागू होने के 52 वर्ष के इतिहास में पर्यटकों के लिए ताज में रुकने की समयावधि का नियम कभी लागू नहीं हुआ. 15 वर्ष तक के बच्चे भी नि:श्शुल्क प्रवेश पाते रहे हैं.

एएसआइ ने रविवार से देसी-विदेशी पर्यटकों की टिकट पर तीन घंटे की वैधता अवधि लागू कर दी है. पर्यटक के हाथ में टिकट आते ही यह समय शुरू हो जाएगा. इससे अधिक समय तक रुकने वाले पर्यटकों को दूसरी टिकट लेनी होगी. बच्चों के लिए जीरो वैल्यू टिकट शुरू होगी. अधीक्षण पुरातत्वविद डॉ. भुवन विक्रम ने बताया कि तीन घंटे से अधिक समय तक रुकने वाले पर्यटकों को दोबारा टिकट लेनी होगी.