चीन का एक और कारनामा, बनाया दुनिया का सबसे लंबा पुल

पड़ोसी देश चीन दुनिया का सबसे लंबा समुद्री पुल बना रहा है, कहा जा रहा है इसे बनाने में 60 एफिल टावर के बराबर स्टील की मात्रा का इस्तेमाल किया गया है पर आलोचकों ने चीन की इस परियोजना को महंगा सफेद हाथी करार दिया है. हांगकांग के विरोधियों का कहना है कि यह परियोजना बीजिंग के अभियान की अर्ध-स्वायत्त शहर पर अपनी पकड़ मजबूत करने का हिस्सा है.

9 साल पहले शुरु हुई थी परियोजना
पुल की लंबाई 55 किलोमीटर बताई जा रही है, यह हांगकांग, मकाउ और चीन को जोड़ेगा. पुल पानी के भीतर सुरंग से होकर भी गुजरेगा.

इसमें उतार चढ़ाव भी होंगे. 9 साल पहले शुरू हुई परियोजना का इस हफ्ते चीनी सरकार ने प्रीव्यू दिखाया. खबरों के मुताबिक यह पुल हांगकांग को दक्षिण चीन के शहर जुहाई और जुएं के लिए मशहूर मकाउ को जोड़ेगा.

पुल बनाने में हो रहा 420,000 टन स्टील का इस्तेमाल
चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक पुल के लिए 420,000 टन स्टील इस्तेमाल किया जा रहा है, कहा जा रहा है कि यह मात्रा इतनी है कि 60 एफिल टॉवर बन जाएं. इस पुल की परियोजना के मैनेजर गाओ जिंगलिन ने कहा कि इस पुल के लिए पानी के भीतर 6.7 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने में उनकी कई रातों की नींद लगी.

गाओ ने बताया कि कई रात मैं सो नही पाया, क्योंकि निर्माण के दौरान बहुत सी कठिनाइयां आईं.” उन्होंने आगे कहा- ”पानी के भीतर 80 हजार टन के पाइपों को वाटरटाइट तकनीकी के सहारे जोड़ना सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य था.” इस परियोजना में कितनी लागत आई, यह साफ नहीं हो पाया है, लेकिन कुछ अनुमानों में इसे 100 बिलियन युआन (15.1 बिलियन डॉलर) से ज्यादा बताया जा रहा है. इसमें कृत्रिम टापू, लिंक रोड और नई बॉर्डर क्रॉसिंग सुविधाएं शामिल हैं.